ताज़ा खबर
 

ISIS की बर्बरता: तीन दिन तक भूखा रखने के बाद यजीदी यौन गुलाम को खिला दिया उसी के बेटे का मांस

आईएस ने करीब तीन साल पहले उत्‍तरी ईराक को अपने कब्‍जे में लिया, तो अल्‍पसंख्‍यक समुदाय के खिलाफ नरसंहार किया।
इस्‍लामिक स्‍टेट के कब्‍जे से छुड़ाई गईं यौन गुलाम। (Source: Reuters)

इस्‍लामिक स्‍टेट ऑफ ईराक एंड सीरिया (आईएसआईएस) की बर्बरता के बारे में ईराकी सांसद वियान डकहिल ने सनसनीखेज दावा किया है। सांसद का कहना है कि एक यजीदी यौन गुलाम को आईएस आतंकियों ने तीन दिन तक भूखा रखा। उसके बाद महिला के 1 साल के बच्‍चे को पकाकर चावल के साथ उसी के सामने परोस दिया। महिला को कई दिनों तक बिना खाना-पानी के एक जेल में बंद रखा गया। एक टीवी इंटरव्‍यू के दौरान डकहिल ने एक्‍स्‍ट्रा न्‍यूज को बताया, ”एक महिला जिसे हमने आईएस के चंगुल से छुड़ाया, उसने कहा कि उसे तीन दिन तक बिना खाना-पानी के कैद में रखा गया। उसके बाद, वे (आतंकी) उसके लिए प्‍लेट में चावल और मांस लेकर आए। महिला भूखी थी इसलिए वह जो मिला, खा गई। जब उसका पेट भर गया तो आतंकियों ने उससे कहा, ‘हमने तुम्‍हारे 1 साल के बेटे को छीन लिया था, उसे पकाया और वही तुमने अभी खाया।”’ डकहिल ने आईएस द्वारा किए गए जा रहे अत्‍याचारों का खुलासा किया। उन्‍होंने टीवीप कार्यक्रम में कहा कि एक 10 साल की छोटी बच्‍ची का उसके पिता और पांच बहनों के सामने बलात्‍कार किया गया।

जब आईएस ने करीब तीन साल पहले उत्‍तरी ईराक को अपने कब्‍जे में लिया, तो अल्‍पसंख्‍यक समुदाय के खिलाफ नरसंहार किया। ईराक की अधिकतर अल्‍पसंख्‍यक आबादी उत्‍तरी ईराक में मुख्य रूप से सिंजर के चारों तरफ रहती है। इस इलाके को अब आईएस-विरोधी ताकतों ने अपने कब्‍जे में ले लिया है, मगर लड़ाई के चलते यह इलाका बड़े पैमाने पर ध्‍वस्‍त हो चुका है।

आईएस यजीदियों को, जो कि न ही अरब, न ही मुस्लिम होते हैं, शैतान के पुजारियों की तरह समझता है। आतंकियों ने ईराक में हजारों यजीदियों की हत्‍या कर दी है और महिलाओं और बच्‍चों को यौन गुलाम बनाकर रख लिया।

2014 में, आईएस जिहादियों ने यजीदी महिलाओं को पकड़ा और उन्‍हें यौन-गुलाम बना दिया। इसके बाद महिलाओं को कैलिफेट में बिकने और विनिमय के लिए उतारा गया। बताया जाता है कि अभी भी करीब 3,000 महिलाएं आईएस के कब्‍जे में हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग