ताज़ा खबर
 

सफलताओं के बावजूद क्यों हिंसक हो गया था मैनक सरकार? वजह तलाशने में जुटे जांचकर्ता

जांचकर्ता अब उन वजहों को तलाशने में लगे हैं, जिनके चलते उसने उन लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी, जिन्हें कभी उसने अपना करीबी माना था।
Author लॉस एंजिलिस | June 5, 2016 05:16 am
भारतीय अमेरिकी बंदूकधारी मैनक सरकार ने अंतिम मैसेज छोड़ा था ‘चैक ऑन माय कैट’।

शीर्ष विश्वविद्यालयों की अकादमिक डिग्रियों और पसंदीदा देश में नई पत्नी के साथ मैनक सरकार ने जब अपने जीवन के मध्य भाग में प्रवेश किया, तब वह सफलता की एक मजबूत नींव रख चुका था। बावजूद इसके इस सप्ताह सरकार द्वारा की गई हत्याओं ने सबको स्तब्ध कर दिया है। जांचकर्ता अब उन वजहों को तलाशने में लगे हैं, जिनके चलते उसने उन लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी, जिन्हें कभी उसने अपना करीबी माना था।

अधिकारियों ने कहा कि सरकार ने खुद से अलग रह रही पत्नी को मिनियापोलिस उपनगर में मार डाला। इसके बाद लॉस एंजिलिस स्थित यूनिवर्सिटी आॅफ कैलिफोर्निया पहुंचकर उस प्रोफेसर को मार डाला, जिन्होंने इंजीनियरिंग में पीएचडी करने में उसकी मदद की थी। संकोची स्वभाव वाले मैनक को उनके प्रोफेसरों द्वारा शंकाएं जाहिर किए जाने पर पीएचडी हासिल करने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा था। प्रोफेसरों ने उन्हें बताया था कि उनका शोध निबंध अच्छा नहीं है।

सरकार के मेंटर की अपनी अलग शंकाएं थीं लेकिन जब सरकार ने एक नया दस्तावेज जमा किया तो प्रोफेसर विलियम क्लुग ने अपने सहकर्मियों से कहा कि वे इस छात्र को पास कर दें। क्लुग के सहकर्मी और करीबी दोस्त प्रोफेसर जेफ एल्ड्रेज ने कहा कि हम आराम से कह सकते थे कि यह पर्याप्त नहीं है, आपको और करना होगा। उन्होंने बताया कि हमने सिर्फ इतना ही कहा, ‘इसे यहां से बाहर निकलने दो।’ यह वर्ष 2013 की बात थी।

सरकार अपने पीछे टूट चुके परिवार, स्तब्ध विश्वविद्यालय समुदाय, एक ‘किल लिस्ट’ और कई सवाल छोड़ गए हैं। इस किल लिस्ट में एक नाम उस प्रोफेसर का भी है, जिसने सरकार के अनुसार, उनके साथ गलत व्यवहार किया था। यह बात जल्दी ही साफ हो गई, कि सरकार मानता था कि प्रोफेसर विलियम क्लुग ने उसका कोड चुराया है।

मार्च में सरकार ने आॅनलाइन पोस्ट डाली थी कि जिस क्लुग की उसने वर्ष 2013 में अपने शोध निबंध में तारीफ की थी, उसने उसे ‘वास्तव में बीमार’ बना दिया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.