ताज़ा खबर
 

भारत में अफ्रीकी छात्रों पर हो रहे हमलों पर संयुक्‍त राष्‍ट्र ने जताई चिंता, कहा- दोषियों पर कार्रवाई करे सरकार

उन्होंने कहा, "मेरी जानकारी में इसमें संयुक्त राष्ट्र शामिल नहीं हुआ है। हमें पूरी उम्मीद है कि इन हमलों के जिम्मेदार लोगों को न्याय के कठघरे में लाया जाएगा।"
Author April 4, 2017 18:49 pm
गौतम बुद्धनगर में पुलिस को अपनी आपबीती सुनाते अफ्रीकी नागरिक (Source-ANI)

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने सोमवार (4 अप्रैल) को कहा कि संयुक्त राष्ट्र चाहता है कि भारत में अफ्रीकी छात्रों पर हमले के जिम्मेदार लोगों को न्याय के कठघरे में लाया जाए। डुजारिक एक संवाददाता के सवाल का जवाब दे रहे थे, जिसमें पूछा गया था कि नई दिल्ली में अफ्रीकी राजनयिक अपने नागरिकों पर ‘विदेशियों के प्रति घृणा से संबंधित हमले’ के मामले को संयुक्त राष्ट्र ले जाना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, “मेरी जानकारी में इसमें संयुक्त राष्ट्र शामिल नहीं हुआ है। हमें पूरी उम्मीद है कि इन हमलों के जिम्मेदार लोगों को न्याय के कठघरे में लाया जाएगा।”

इससे पहले सोमवार को भारत में अफ्रीकी राजनयिकों के डीन इरिट्रिया के राजदूत ने राजनयिकों की तरफ से एक बयान जारी किया, जिसमें दिल्ली तथा उसके आसपास अफ्रीकी छात्रों पर हो रहे हमलों को ‘विदेशियों के प्रति घृणा तथा नस्लीय’ प्रवृत्ति का करार दिया गया था।

बयान के मुताबिक, अफ्रीकी राजनयिकों ने आगे की कार्रवाई करने तथा घटना की (संयुक्त राष्ट्र) मानवाधिकार परिषद सहित अन्य मानवाधिकार संस्थाओं से स्वतंत्र जांच कराने पर सहमति जताई।

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा है कि मामले में अंतर्राष्ट्रीय जांच की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि ‘मजबूत भारतीय संस्थान उन अपवादों से निपटने के लिए पर्याप्त हैं, जिन्होंने कुछ अपराधियों ने अंजाम दिया है।’

बता दें कि बीते शनिवार (25 मार्च) ग्रेटर नोएडा में 12वीं कक्षा के छात्र मनीष खरी की रहस्यमय हालात में हुई मृत्यु हो गई थी। वह एक रात पहले से लापता था। मनीष के परिजनों ने पास में रह रहे नाइजीरियाई छात्रों पर उसे नशा देकर हत्या करने का आरोप लगाया। मनीष के परिजनों ने नाइजीरियाई छात्रों के खिलाफ हत्या के मामले को लेकर एफआईआर भी दर्ज कराई। इसके बाद विवाद पैदा हो गया और नाइजीरियाई छात्रों से मारपीट की घटनाएं सामने आईं।

स्थानीय लोगों ने (27 मार्च) को इलाके में एक मार्च निकाला था, जो हिंसा में तब्दील हो गया। पुलिस ने इस मामले में तकरीबन 600 लोगों के खिलाफ दंगा भड़काने और 44 लोगों पर हत्या की कोशिश का केस भी दर्ज किया है।

देखिए वीडियो - ग्रेटर नोएडा में हमले की दूसरी वारदात; नाइजीरियाई लड़की को ऑटो से उतारकर बुरी तरह पीटा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    anil
    Apr 4, 2017 at 8:32 pm
    Were UN sleeping when Indians were killed in USA and Australia
    (0)(0)
    Reply
    सबरंग