December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

जिंदा या मुर्दा: हर एक चूहे को पकड़ने पर 20 हजार देगी सरकार

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता दुनिया की सबसे प्रदूषित और आबादी वाले शहरों में से एक है। अब शहर की सड़कों को साफ करने के लिए नई मुहिम चलाई है इस मुहिम के तहत चूहे को पकड़ने पर सरकार की ओर से ईनाम दिया जाएगा।

जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ जिला अस्पताल में एक असमय जन्में शिशु के शव को कथित तौर पर चूहों ने कुतर डाला।

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता दुनिया की सबसे प्रदूषित और आबादी वाले शहरों में से एक है। अब शहर की सड़कों को साफ करने के लिए नई मुहिम चलाई है इस मुहिम के तहत चूहे को पकड़ने पर सरकार की ओर से ईनाम दिया जाएगा। सरकार द्वारा दिए गए इस ऑफर के तहत एक चूहे को पकड़ने पर 20 हजार इडोनेशियाई रुपिया (करीब US$1.50) यानी 100 रुपए से ज्यादा मिलेंगे। अधिकारियों को उम्मीद है इस अभियान से शहर को साफ करने में मदद मिलेगी। एक सरकारी वेबसाइट ने जकार्ता के डिप्टी गवर्नर दजरोत सैफुल हिदायत के हवाले से कहा कि यहां पर बहुत सारे चूहे हैं और कई तो बहुत बड़े हैं। हाल ही में उन्होंने इस प्लान की घोषणा की थी।

एएफपी के मुताबिक गवर्नर ने कहा कि हाल ही में एक बड़े चूहे से सामना होने के बाद उन्होंने इस प्रोग्राम को लॉन्च करने का फैसला किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि चूहे बहुत खतरनाक होते हैं और बहुत सी बीमारियां फैलाते हैं। हम एक चूहे को पकड़ने के लिए 20,000 रुपिया देंगे। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया है कि स्थानीय लोग चूहों को कैसे पकड़ेंगे- जिंदा या मुर्दा। लेकिन लोगो से बंदूक का इस्तेमाल करने से मना किया है। जकार्ता पोस्ट से बातचीत में उन्होंने कहा कि अगर संभंव हो तो गन्स का इस्तेमाल नहीं करे क्योंकि अगर शॉट मिस हो गया तो गोली किसी इंसान को भी लग सकती है।

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

जानकारी के मुताबिक पकड़े गए चूहों को स्थानीय अधिकारियों को देने के लिए कहा गया है। वही लोग उन्हें पैसे देंगे और जानवरों को जकार्ता सेनिटेशन एजेंसी के हवाले कर देंगे। हालांकि इस बात की कोई गारंटी नहीं है यह प्लान कामयाब होगा कि नहीं। क्योंकि इससे पहले वियतनाम की राजधानी हनाई में फ्रेंच औपनिवेशिक में चलाया गया था लेकिन यह उलटा पड़ गया था।

READ ALSO: अस्पताल में आग से मरने वालों के परिजनों को मिलेगा पांच लाख रुपए का मुआवजा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 19, 2016 5:08 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग