ताज़ा खबर
 

टाइल्स के चक्कर में भारतीय मूल की महिला को 168 रुपए में बेचना पड़ा 2.2 करोड़ का घर, जानिए क्यों

एक अदालती आदेश में निर्देश दिया गया था कि कानूनी फीस और लागत निकालने के लिए 76 हजार पाउंड की वसूली के उद्देश्य से घर को बेचा जाए। दरअसल पड़ोसी से विवाद के होने के बाद मामला कोर्ट में चला गया था।
(Representative Image)

ब्रिटेन में भारतीय मूल की एक 43 वर्षीय टीचर रेखा पटेल ने अपना घर सिर्फ दो पाउंड (भारतीय करेंसी में 168.73 रुपए) की टोकन मनी में बेच दिया। इस घर की मार्केट वैल्यू ढाई लाख पाउंड (करीब 2.20 करोड़ रूपये) है लेकिन महिला ने इसे इतने सस्ते में इस उद्देश्य से बेचा ताकि उसे संपत्ति से बेदखल न किया जा सके। पेशे से टीचर रेखा पटेल का घर का निर्माण कराने को दौरान अपने पड़ोसियों से करीब 6 साल पहले विवाद हो गया था। रेखा ने वर्ष 2010 में ग्लोसोप के सिमंडली गांव में करीब दो लाख पाउंड (1 करोड़ 68 लाख रुपए) खर्च करके दो बेडरूम वाला जर्जर कॉटेज खरीदकर उसे अपने सपनों का घर बनाया था।

एक अदालती आदेश में निर्देश दिया गया था कि कानूनी फीस और लागत निकालने के लिए 76 हजार पाउंड की वसूली के उद्देश्य से घर को बेचा जाए। दरअसल पड़ोसी से विवाद के होने के बाद मामला कोर्ट में चला गया था। कोर्ट ने रेखा पटेल को आदेश दिया था कि वो पड़ोसी को हुए नुकसान और कानूनी खर्चे का भुगतान करे। उन्होंने इस रकम का कुछ हिस्सा अदा कर दिया लेकिन बाकी रकम को लेकर उन्होंने आपत्ति जताई थी। इसके बाद उन्होंने इस घर को बेचने का फैसला किया। रिपोर्ट्स के मुताबिक पटेल जब अपने ड्रीम हाउस की मरम्मत करा रही थीं इसी दौरान पड़ोसी के घर की 12 टाइल्स डैमेज हो गई थी। नुकसान की भरपाई के लिए उनके पड़ोसी कोर्ट पहुंच गए थे।

रेखा ने बताया, ‘‘मैंने महसूस किया कि मेरे पास मकान मालिक से ज्यादा किरायेदार के तौर पर अधिकार होंगे और इसलिए मैंने घर से अपने सभी कानूनी रिश्तों को पूरी तरह तोड़ने का फैसला किया जिससे मैं अपने घर में शांति के साथ रह सकूं।’’ उन्होंने कहा कि 18वीं शताब्दी के शुरू में बने इस घर को उन्होंने दो प्राइवेट कंपनियों को बेचा और उनके साथ किराये के लिए दस साल के करारनामे पर हस्ताक्षर किए हैं। जिससे मैं 50 पाउंड (4218 रुपए) महीने के किराए पर यहां रह सकूं।

वीडियो: समाजसेवी बेला भाटिया के घर में घुसे 30 हथियारबंद लोग; 24 घंटों में घर खाली करने की दी धमकी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.