December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

पाकिस्तान ने भारतीय राजनयिक को तलब किया, भारत ने भी दर्ज कराया विरोध

एक सप्ताह में भारतीय उप उच्चायुक्त को चौथी बार तलब किया गया है।

Author इस्लामाबाद | November 2, 2016 02:27 am
भारत- पाकिस्तान।

भारत ने आतंकवादियों की घुसपैठ कराने में मदद के लिए पाकिस्तान की ओर से की जाने वाली अकारण गोलीबारी को लेकर मंगलवार (1 नवंबर) को उस वक्त अपना विरोध दर्ज कराया जब पाकिस्तान ने भारतीय उप उच्चायुक्त को तलब किया। पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा ‘संघर्ष विराम का अकारण उल्लंघन किए जाने’ को लेकर भारतीय उप उच्चायुक्त को तलब किया और विरोध दर्ज कराया। एक सप्ताह में भारतीय उप उच्चायुक्त को चौथी बार तलब किया गया है। पाकिस्तानी विदेश विभाग ने एक बयान में कहा, ‘महानिदेशक (दक्षिण एशिया और दक्षेस) मोहम्मद फैसल ने भारतीय उप उच्चायुक्त जेपी सिंह को आज तलब किया और 31 अक्तूबर को निकिआल और जनद्रोत सेक्टरों में भारतीय सुरक्षा बलों की ओर से किए गए संघर्ष विराम के अकारण उल्लंघन की कड़ी निंदा की।’

बॉर्डर पर पाकिस्तान की फायरिंग का BSF ने दिया करारा जवाब; 15 पाक रेंजर्स ढेर

बयान में कहा गया है कि भारतीय सुरक्षा बलों की गोलीबारी में एक महिला सहित छह नागरिक मारे गए और आठ घायल हो गए। नई दिल्ली में भारतीय अधिकारियों ने कहा कि सिंह ने आतंकवादियों की घुसपैठ कराने में मदद के लिए पाकिस्तान की ओर से की जाने वाली अकारण गोलीबारी को लेकर विरोध दर्ज कराया। उन्होंने कहा कि भारतीय राजनयिक ने पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम का उल्लंघन किए जाने में भारतीय नागरिकों के मारे जाने का भी उल्लेख किया। पाकिस्तानी विदेश विभाग ने कहा, ‘महानिदेशक ने भारतीय पक्ष से कहा कि वह ‘संघर्षविराम के उल्लंघन’ की निरंतर हो रही घटनाओं की जांच करे, भारतीय सुरक्षा बलों को 2003 के संघर्षविराम का सम्मान करने का निर्देश दे, गांवों को ‘निशाना बनाना’ छोड़े और कामकाजी सीमा और नियंत्रण रेखा पर शांति कायम रखे।’

एक सप्ताह में यह पांचवां मौका था जब पाकिस्तान के विदेश विभाग ने ‘संघर्षविराम के उल्लंघन’ को लेकर भारत के राजनयिकों को तलब किया। पाकिस्तानी विदेश विभाग ने भारत के उप उच्चायुक्त को 25, 26 और 28 अक्तूबर को भी तलब किया था। पाकिस्तान के विदेश सचिव एजाज चौधरी ने 27 अक्तूबर को भारतीय उच्चायुक्त गौतम बम्बावाले को तलब किया था और भारतीय उच्चायोग के एक अधिकारी को ‘अवांछित’ करार दिए जाने के निर्णय से अवगत कराया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 2, 2016 2:27 am

सबरंग