ताज़ा खबर
 

पठानकोट हमले के गुनहगार पर भारत का बयान- निश्चिंत रहें, हम मसूद अजहर का पीछा करेंगे

अजहर को आतंकी का दर्जा दिलाने के भारत के प्रयासों से जुड़े सवाल के जवाब में उन्होंने कल कहा, ‘‘हम यह स्पष्ट करना चाहेंगे कि हमारी ओर से मसूद अजहर का मामला तब तक उठाया जाता रहेगा।
Author September 17, 2017 18:17 pm
जैश ए मोहम्मद का सरगना और पठानकोट हमले के साजिशकर्ता मसूद अजहर

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर पर फैसले की घड़ी नजदीक आ रही है, भले ही संयुक्त राष्ट्र उसके खिलाफ कार्रवाई करने की अनुमति दे या न दे। उन्होंने शनिवार को चेतावनी भरे शब्दों में कहा, “हम अजहर का पीछा करेंगे। इस बारे में निश्चिंत रहें। फैसले की घड़ी नजदीक है।” चीन ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंध लगाने में रुकावट डालकर हमेशा आतंकवादी अजहर की सहायता की है, जो 2016 में पंजाब के पठानकोट वायु सेना अड्डे पर हमले का मस्टरमाइंड है। इस हमले में सात भारतीय मारे गए थे।  न्यूयॉर्क में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान इस बारे में पूछे जाने पर अकबरुद्दीन ने यह कहते हुए इस बारे में टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि यह मामला संयुक्त राष्ट्र समिति के सामने लंबित है। हालांकि, उन्होंने पाकिस्तान में रह रहे अजहर को सीधे तौर पर चेतावनी दी। पिछले महीने चीन ने ब्रिटेन, फ्रांस और अमेरिका द्वारा अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने और प्रतिबंध लगाकर उसकी संपत्तियों को जब्त करने व उसकी अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं पर प्रतिबंध लगाने के प्रस्ताव को रोक दिया था।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने यहां कहा, ‘‘न्यायिक शब्दों में कहें तो यह मामला विचाराधीन है। इस समय यह मामला संयुक्त राष्ट्र की समिति के समक्ष है। हम उम्मीद करते हैं कि समिति मसूद अजहर को आतंकी का दर्जा देने की अपनी भूमिका निभाएगी। हमने कई बार उसे आतंकी घोषित करवाने की कोशिश की है लेकिन अब तक इसमें सफलता नहीं मिली है।’’ अजहर को आतंकी का दर्जा दिलाने के भारत के प्रयासों से जुड़े सवाल के जवाब में उन्होंने कल कहा, ‘‘हम यह स्पष्ट करना चाहेंगे कि हमारी ओर से मसूद अजहर का मामला तब तक उठाया जाता रहेगा, जब तक कि उसे न्याय के कठघरे नहीं लाया जाता।’’ अजहर को आतंकी घोषित करवाने के भारत के प्रयासों को बार-बार चीन अवरूद्ध करता रहा है।

इस महीने की शुरुआत में हुए ब्रिक्स सम्मलेन में हालांकि चीन ने पाकिस्तान आधारित आतंकवादी समूहों में लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद को भी नामित किया। संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में जम्मू एवं कश्मीर पर अपेक्षित पाकिस्तानी अभियान के बारे में एक सवाल के जवाब में सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र ने दशकों से इस मामले को संज्ञान में नहीं लिया है और इसमें कोई बदलाव नहीं होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि जो लोग बीते कल के मामलों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, वे बीते कल वाले लोग होते हैं। अगर वे ऐसा ही होना चाहते हैं, तो यही सही। अकबरुद्दीन ने कहा कि भारत एक प्रेरणादायक एजेंडे और प्रगतिशील दृष्टिकोण पर ध्यान केंद्रित करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.