December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

‘तख्तापलट की हर कोशिश नाकाम करने के लिए श्रीलंका को मिलेगा भारत का समर्थन’

राजपक्षे ने पिछले साल सिरीसेना के हाथों उन्हें मिली हार के लिए भारत समेत अंतरराष्ट्रीय समुदाय को दोषी ठहराया था।

Author कोलंबो | November 21, 2016 14:20 pm
दो दिवसीय यात्रा पर भारत पहुंचे श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (AP Photo/Saurabh Das/File)

श्रीलंका में विपक्ष की सैन्य तख्तापलट की चेतावनी की रिपोर्टों के बीच एक श्रीलंकाई वरिष्ठ मंत्री ने सोमवार (21 नवंबर) को कहा कि भारत श्रीलंका में सेना के सत्ता हासिल करने को सहन नहीं करेगा और देश में तख्तापलट की किसी भी प्रकार की कोशिश नाकाम करने में राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना को पूरा समर्थन देगा। सामाजिक सेवा मंत्री एस बी दिसानायक ने कहा कि सिरीसेना के भारत के साथ अच्छे संबंध हैं और वह श्रीलंका में सैन्य तख्तापलट की किसी भी कोशिश को नाकाम करने में भारत से समर्थन मिलने का भरोसा कर सकते हैं। दिसानायक ने ‘नेथ एफएम रेडियो’ से कहा, ‘राष्ट्रपति के पास भारत का समर्थन है। भारत (श्रीलंका सरकार की मदद के लिए) दो पोत भेजेगा।’

सैन्य तख्तापलट की विपक्ष की चेतावनी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि नई दिल्ली श्रीलंका में सेना की सत्ता हासिल करने की किसी कोशिश को सहन नहीं करेगा। ज्वॉइंट ओपोजिशन के संसदीय नेता दिनेश गुणवर्धन ने शुक्रवार को संसद में कहा था कि देश में सरकार द्वारा लोकतांत्रिक स्वतंत्रता के कथित हनन के मद्देनजर श्रीलंका में सैन्य तख्तापलट का खतरा है। उन्होंने 2017 बजट आवंटन में हिस्सा लेने के लिए सदन में मौजूद सिरीसेना को संबोधित करते हुए यह बात कही। ज्वॉइंट ओपोजिशन सिरीसेना से पहले राष्ट्रपति रहे महिंदा राजपक्षे का समर्थन करता है। राजपक्षे ने पिछले साल सिरीसेना के हाथों उन्हें मिली हार के लिए भारत समेत अंतरराष्ट्रीय समुदाय को दोषी ठहराया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 21, 2016 2:20 pm

सबरंग