ताज़ा खबर
 

Gravitational waves पर 100 साल पहले गई आइंस्टीन की भविष्यवाणी हुई सच

भारतीय समेत दुनियाभर के वैज्ञानिकों के एक संघ ने गुरुवार को कहा कि उन्होंने पहली बार गुरुत्वाकर्षण तरंगों की झलक पाई है, जिनकी अल्बर्ट आइंस्टीन ने लगभग एक सदी पहले भविष्यवाणी की थी। इसे सदी की ‘सबसे बड़ी खोज’ माना जा रहा है।
Author वाशिंगटन | February 12, 2016 02:47 am
आइंस्टीन की घोषणा के मुताबिक एक विशाल गुरुत्वाकर्षण तरंग पैदा हुई, जो पृथ्वी पर 14 सितंबर 2015 को पहुंची

भारतीय समेत दुनियाभर के वैज्ञानिकों के एक संघ ने गुरुवार को कहा कि उन्होंने पहली बार गुरुत्वाकर्षण तरंगों की झलक पाई है, जिनकी अल्बर्ट आइंस्टीन ने लगभग एक सदी पहले भविष्यवाणी की थी। इसे सदी की ‘सबसे बड़ी खोज’ माना जा रहा है।

शोधकर्ताओं ने कहा, अंतरिक्ष में करीब 1.3 अरब वर्ष पहले दो ब्लैक होलों की टक्कर हुई थी। उनके पदार्थों के परस्पर मिलने से एक विशाल गुरुत्वाकर्षण तरंग पैदा हुई, जो पृथ्वी पर 14 सितंबर 2015 को पहुंची। उसी समय उसे दो जटिल उपकरणों की मदद से दर्ज किया गया। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इस खोज से ब्रह्मांड के ‘अंधेरे’ पक्ष के बारे में अहम जानकारियां जुटाने में मदद मिल सकती है। अमेरिकी नेशनल साइंस फाउंडेशन के निदेशक फ्रांस कोरडोवा ने कहा, यह खोज उसी तरह है जिस तरह गैलिलियो के पहली बार दूरबीन को अंतरिक्ष की ओर करने से ब्रह्मांड के बारे में हमारी समझदारी बढ़ी और अनेक अप्रत्याशित खोजों का रास्ता साफ हुआ।

गुरुत्वाकर्षण तरंगों का पता अमेरिका के वाशिंगटन और लुइसियाना स्थित स्थित दो भूमिगत डिटेक्टरों की मदद से लगाया गया। ये डिटेक्टर बेहद सूक्ष्म गुरुत्वाकर्षण तरंगों को भी भांप लेने में सक्षम हैं। इससे जुड़ी योजना को लेजर इंटरफेरोमीटर ग्रैविटेशनल-वेव ऑबजर्वेटरी या लिगो नाम दिया गया है। वैज्ञानिकों को इन तरंगों की पुष्टि करने में करीब चार महीने लगे।

गुरुत्वाकर्षण तरंगें अंतरिक्ष के फैलाव का एक मापक हैं। ये विशाल पिंडों की गति के कारण होती हैं। इनके जरिये अंतरिक्ष और समय को एक अकेले सतत पैमाने पर देखा जा सकता है। ये प्रकाश की गति से चलती हैं और इन्हें कोई चीज रोक नहीं सकती। आइंस्टीन ने कहा था कि अंतरिक्ष-समय एक जाल के समान है, जो किसी पिंड के भार से नीचे की ओर झुकता है। जबकि गुरत्वाकर्षण तरंगे किसी तालाब में कंकड़ फेंकने से उठी लहरों की भांति हैं।

इस खोज में भले ही अमेरिकी डिटेक्टर इस्तेमाल किए गए, मगर भारतीय वैज्ञानिकों ने भी इसमें अहम भूमिका निभाई है। खासकर डिटेक्टर पर ग्रहण किए गए संकेतों का गणितीय आकलन करने संबंधी डिजाइन तैयार करने में भारतीय वैज्ञानिकों ने योगदान दिया है। भारतीयों ने तीन दशक पहले ब्लैक होलों की परस्पर टक्कर के बारे में समझदारी विकसित करने में भी सैद्धांतिक योगदान दिया था। मौजूदा खोज में भारतीय वैज्ञानिकों के संघ की नेताओं में शामिल सैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी बेला अय्यर ने कहा,  यह एक बेहद महत्वपूर्ण और महान खोज है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुत्वाकर्षण तरंगों की ऐतिहासिक खोज पर गुरुवार को प्रसन्नता जताई और परियोजना में भारतीय वैज्ञानिकों की भूमिका की सराहना की। मोदी ने ट्वीट किया, अत्यधिक गर्व है कि भारतीय वैज्ञानिकों ने इस चुनौतीपूर्ण खोज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने माइक्रोब्लागिंग वेबसाइट पर सिलसिलेवार पोस्ट में कहा, गुरुत्वीय तरंगों की ऐतिहासिक खोज ने ब्रह्मांड को समझने के लिए एक नया मोर्चा खोल दिया है। मोदी ने कहा, देश में एक विकसित गुरुत्वीय तरंग अन्वेषक के साथ और अधिक योगदान के लिए आगे बढ़ने की उम्मीद करता हूं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.