ताज़ा खबर
 

कुलभूषण जाधव के खिलाफ सबूतों का विश्लेषण कर रहे पाकिस्तानी आर्मी चीफ बाजवा, मर्सी पिटीशन पर जल्द फैसला

जासूसी करने और बलूचिस्तान में आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोपी जाधव को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनाई है। अदालत ने बाद में जाधव की दया याचिका भी ठुकरा दी।
Author इस्लामाबाद। | July 17, 2017 16:51 pm
भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में सैन्य अदालत से मौत की सजा दी गई थी

जासूसी के आरोप में पाकिस्तान में मौत की सजा पाए भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की दया याचिका पर पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा जल्द ही फैसला लेंगे। पाक आर्मी चीफ जाधव के खिलाफ सबूतों का विश्लेषण कर रहे हैं। पाकिस्तान आर्मी की ओर से रविवार को इस्लामाबाद में इस बात की जानकारी दी। जाधव को पाकिस्तान की मिलेट्री कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी। इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) की ओर 22 जून को जारी स्टेटमेंट में बताया गया था कि जाधव ने जनरल बाजवा के समक्ष दया याचिका दायर की थी। दया याचिका उस समय दाखिल की गई जब सैन्य अपीलीय न्यायालय ने जाधव की पिटीशन खारिज कर दी थी।

पाकिस्तान आर्मी के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने बताया, “जनरल बाजवा ने जाधव के खिलाफ सबूतों का विश्लेषण कर रहे हैं। सेना प्रमुख गुण दोष के आधार पर जाधव की अपील पर फैसला करेंगे।’’ पाकिस्तान के कानून के तहत जाधव सेना प्रमुख से अपनी सजा माफ करने की अपील कर सकते हैं और अपील खारिज होने पर वह पाकिस्तानी राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका दे सकते हैं। सरकारी रेडियो चैनल ने रक्षा प्रवक्ता के हवाले से कहा है कि जाधव मामले में फैसला ‘न्याय पर आधारित होगा’।

जासूसी करने और बलूचिस्तान में आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोपी जाधव को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनाई है। अदालत ने बाद में जाधव की दया याचिका भी ठुकरा दी। पाकिस्तान जाधव से मिलने की भारतीय उच्चायोग के अनुरोधों को ठुकराता रहा है। द हेग स्थित अंतराष्ट्रीय न्यायालय ने मई में भारत की अपील के बाद सजा की तामील पर रोक लगा दी। कुछ दिन पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहार सरताज अजीज को जाधव की मां को उससे मिलने के वीजा नहीं देने पर लताड़ा। उन्होंने बताया कि जाधव की मां को वीजा दिलाने के लिए उन्होंने खुद चिट्ठी लिखी थी, लेकिन न तो उन्हें वीजा दिया गया और न ही यह बताया गया कि उन्हें चिट्ठी प्राप्त हुई है यह नहीं।

कुलभूषण जाधव को मौत की सजा; जानिए क्या है पूरा मामला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    Sajid
    Jul 16, 2017 at 9:13 pm
    हैंग थिस टेर्ररिस्ट असप
    (0)(0)
    Reply
    1. P
      Paras Nath
      Jul 17, 2017 at 5:38 am
      You Pakistani terrorists always try to terrorize innocent people.
      (0)(0)
      Reply