December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

14 साल पहले गैंगरेप के बाद दरिंदों ने कराई थी निर्वस्‍त्र परेड, रैंप पर उतरी तो कहा- हम कमजोर नहीं

पाकिस्तान की जिस महिला को 14 साल पहले गैंगरेप करके बिना कपड़ों के परेड कराई गई थी, वहीं महिला अब पाकिस्तान फैशन वीक में रैंप पर उतरीं।

2002 में गैगरेप का शिकार हुईं महिला मुख्तार मई पाकिस्तान फैशन वीक में आईं नजर। (AP Photo)

पाकिस्तान की जिस महिला को 14 साल पहले गैंगरेप करके बिना कपड़ों के परेड कराई गई थी, वहीं महिला अब पाकिस्तान फैशन वीक में रैंप पर उतरीं। पाकिस्तान के कराची शहर में आयोजित कार्यक्रम में रैंप पर उतरी मुख्तार माई पाकिस्तान की दूसरी महिलाओं के लिए साहस और आशा का रोल मॉडल बनकर उभरी। उन्होंने कहा कि अगर मेरे एक कदम से एक महिला की मदद होती है, तो मैं मुझे बहुत खुशी होगी। मंगलवार को रैंप पर उतरी मई के चेहरे पर थोड़ी घबराहट नजर आई। मई ने लाइट ग्रीन कलर का शर्ट और सिल्वर रंग का सिल्क का पायजामा पहना हुआ था, जिसे रोजिना मुनीब से डिजाइन किया था। उन्होंने अपने सिर को सार्फ से कवर किया हुआ था। मुनीब ने बताया कि उन्होंने मई को मनाया कि वह यहां आए ताकि महिलाओं में संदेश जाए कि एक बार गलत होने का मतलब ये नहीं होता कि जिंदगी खत्म हो गई है।

मई ने कहा, ‘मैं उन महिलाओं की आवाज बनना चाहती हूं जो उन परिस्थितियों से होकर गुजरी हैं, जिनका सामना मैंने किया। मेरी बहनों के लिए मेरा संदेश है कि हम कमजोर नहीं है। हमारे पास भी दिल और दिमाग है, हम सोच सकते हैं।’ मैं अपनी बहनों से कहना चाहती हूं कि अन्याय होने पर हिम्मत नहीं हारनी चाहिए क्योंकि एक एक दिन हमें न्याय जरूर मिलेगा।

गौरतलब है कि साल 2002 में गांव की परिषद की ओर से दी गई सजा के तौर पर मुख्तार माई से सामूहिक बलात्कार किया गया था और उन्हें बिना कपड़ों के परेड कराई गई थी। मुख्तार माई के भाई (जो उस समय सिर्फ 12 साल का था) पर विरोधी कबीले की महिला से अवैध संबंधों का आरोप लगाया गया था। एक स्थानीय अदालत ने इस मामले में छह लोगों को सजा सुनाई लेकिन ऊपरी अदालत ने मार्च 2005 में इनमें से पांच को बरी कर दिया था और मुख्य अभियुक्त अब्दुल खालिक की सजा को उम्र कैद में बदल दिया था। सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई मुख्तार माई महिला अधिकारों के लिए चलने वाले अभियान का प्रतीक बन गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 2, 2016 6:36 pm

सबरंग