ताज़ा खबर
 

जी20 सम्मेलन: ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री टेरेसा मे से मिले नरेंद्र मोदी, ‘अवसरों के निर्माण’ पर चर्चा

यह दोनों नेताओं की पहली मुलाकात है।
Author हांगझोउ | September 5, 2016 13:19 pm
चीन के हांगझोउ में आयोजित जी20 शिखर सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार (5 सितंबर) को ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री टेरेसा मे से मुलाकात की। यह दोनों नेताओं की पहली मुलाकात है। उन्होंने यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के अलग होने के फैसले के मद्देनजर द्विपक्षीय संबंधों को और गहरा करने के उपायों पर चर्चा की। जी20 सम्मेलन से इतर दोनों नेताओं ने यहां दुनिया के सबसे बड़े एकल बाजार यानी यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के अलग हो जाने के बाद ‘अवसरों के निर्माण’ पर चर्चा की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट कर जानकारी दी, ‘यूनाइटेड किंगडम के साथ अवसरों का निर्माण। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे के साथ पहली बार द्विपक्षीय वार्ता की।’ मे ने 13 जुलाई को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी। राष्ट्र की जनता ने यूरोपीय संघ छोड़ने के पक्ष में मत दिया था जिसके बाद उनके पूर्ववर्ती डेविड कैमरन ने पद से इस्तीफा दे दिया था।

मार्ग्रेट थैचर के बाद 59 वर्षीय मे ब्रिटेन की दूसरी महिला प्रधानमंत्री हैं और उनकी तुलना अक्सर थैचर से की जाती है। उनके शपथ ग्रहण करने के बाद मोदी ने 27 जुलाई को उन्हें बधाई देते हुए रणनीतिक द्विपक्षीय भागीदारी को और अधिक मजबूत करने के लिए भारत की प्रतिबद्धता दोहराई थी। फोन पर हुई इस वार्ता के दौरान मे ने मोदी को धन्यवाद दिया था और कहा था कि वह भारत के साथ मजबूत रिश्ते विकसित करने और सहयोग बढ़ाने के लिए उत्सुक हैं। सोमवार सुबह मोदी ने कहा था कि प्रभावी वित्तीय प्रशासन में भ्रष्टाचार, काले धन और कर चोरी से निपटना महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, ‘आर्थिक अपराध करने वालों के लिए सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म करने और धनशोधन करने वालों को पकड़ने तथा उनका बिना शर्त प्रत्यर्पण करने के लिए कदम उठाने की जरूरत है।’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी20 सम्मेलन से इतर सोमवार को फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद और तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयीप एर्दोगन के साथ ‘अलग से’ बैठकें की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट कर बताया, ‘फ्रांस के साथ रणनीतिक साझेदारी को मजबूत किया गया। फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के साथ प्रधानमंत्री मोदी ने तुरंत अलग से एक बैठक की।’ मोदी की फ्रांस के राष्ट्रपति के साथ इस लघु बैठक के दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और विदेश सचिव एस जयशंकर भी मौजूद थे। इससे पहले रविवार को ओलांद ने फेसबुक पर एक पोस्ट में लिखा था, ‘इस ग्रह के नियमन में फ्रांस का योगदान है।’ ओलांद ने कहा, ‘हमारा देश नियमरहित वैश्विकरण को स्वीकर नहीं करता जहां सामाजिक संरचनाएं एक दूसरे के खिलाफ हों तथा एक दूसरे को पतन की ओर ले जाती हों, जहां गैर बराबरी के कारण बौद्धिक संपदा के अधिकारों को और फिर सांस्कृतिक विविधतता को खतरा हो।’

पेरिस के जलवायु परिवर्तन समझौते के अनुमोदन के लिए ओलांद ने अमेरिका और चीन की प्रशंसा की। इस बीच मोदी ने तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयीप एर्दोगन से मुलाकात की। तुर्की में एर्र्दोगन के खिलाफ हुई तख्तापलट की असफल साजिश के बाद यह उनकी पहली मुलाकात है। उन्होंने द्विपक्षीय संबंधों को नया रूप देने पर चर्चा की। स्वरूप ने ट्वीट में कहा, ‘तुर्की के साथ संबंधों को नया आयाम। प्रधानमंत्री मोदी ने तुर्की के राष्ट्रपति से अलग से बैठक की।’ जुलाई में तुर्की में एर्दोगन सरकार के खिलाफ तख्तापलट की कोशिश हुई थी। यह कोशिश तुर्की सशस्त्र बलों के एक समूह ने की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग