ताज़ा खबर
 

फिलस्तीन पहुंचीं सुषमा स्वराज, विदेशमंत्री से की बातचीत

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने फिलस्तीन को लेकर भारत की दीर्घकालिक प्रतिबद्धता को फिर से व्यक्त करने के मकसद से पश्चिम एशियाई क्षेत्र की अपनी पहली यात्रा शुरू करते हुए रविवार को अपने फिलस्तीनी समकक्ष से बातचीत की।
Author रामल्ला | January 17, 2016 23:20 pm
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने फिलस्तीन में अपने समकक्ष रियाद अल-मलिकी से हाथ मिलाती हुईं।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने फिलस्तीन को लेकर भारत की दीर्घकालिक प्रतिबद्धता को फिर से व्यक्त करने के मकसद से पश्चिम एशियाई क्षेत्र की अपनी पहली यात्रा शुरू करते हुए रविवार को अपने फिलस्तीनी समकक्ष से बातचीत की। फिलस्तीन के एशिया मामलों के सहायक विदेश मंत्री माजेन शामियेह ने बितुनिया चौकी पर सुषमा की आगवानी की। सुषमा इजराइल के रास्ते फिलस्तीन आर्इं। विदेश मंत्री ने पहुंचने के फौरन बाद अपने समकक्ष रियाद अल-मलिकी से मिलीं। उन्होंने यहां महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि भी अर्पित की।

फिलस्तीन के विदेश मंत्रालय के मीडिया विभाग के प्रमुख डॉ वाएल अल-बत्तरेखी ने कहा, ‘भारतीय मंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि फिलस्तीन के मुद्दे पर भारत का रूख बदला नहीं है और फिलस्तीन के मंत्री ने दोनों पक्षों के बीच मजबूत होते संबंधों पर संतोष व्यक्त किया।’ भारत पिछले साल पहली बार संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार संस्थान में अपनाए गए फिलस्तीन के एक प्रस्ताव पर मतदान से दूर रहा था, जिसमें गाजा में 2014 के संघर्ष में शामिल पक्षों की ओर से जवाबदेही की वकालत की गई है। हालांकि भारत का कहना था कि फिलस्तीनी हितों को समर्थन देने की भारत की दीर्घकालिक स्थिति में कोई बदलाव नहीं किया गया है। बत्तरेखी ने कहा, ‘हालांकि विदेश मंत्रियों की बैठक में ऐसा कोई मुद्दा नहीं उठा।’

अल-मलिकी ने भी फिलस्तीन में क्षमता निर्माण प्रक्रिया को बढ़ाने के भारत के सतत प्रयासों के लिए आभार जताया। भारत, फिलस्तीन के लोगों का जीवनस्तर सुधारने के लिए वहां कई परियोजनाएं चला रहा है और फिलस्तीन के छात्रों को छात्रवृत्ति देकर तथा स्कूल बनाकर क्षमता निर्माण में सक्रिय है। फिलस्तीन की यात्रा समाप्त करने के बाद सुषमा स्वराज दो दिनों की यात्रा पर फिर इजराइल चली जाएंगी। इस दौरान वह दोनों देशों के बीच सहयोग के क्षेत्रों पर समीक्षा करने के लिए इजराइल के शीर्ष नेतृत्व के साथ चर्चा करेंगी। वह इजराइल के राष्ट्रपति रेवेन रिवलिन, प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू से भी मिलेंगी। नेतनयाहू के पास विदेश मंत्रालय का प्रभार भी है। सुषमा का इजराइल के रक्षा मंत्री मोशे यालो से मिलने का भी कार्यक्रम है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.