December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

यूरोप की मंगल पर उतरने की लगातार दूसरी कोशिश नाकाम!

यूरोप की मंगल पर उतरने की 13 वर्ष पहले की गई पहली कोशिश असफल रही थी।

Author दारमस्ताद (जर्मनी) | October 22, 2016 12:34 pm
यूरोपीय स्पेस एजेंसी (ईएसए) ने विमान के मंगल पर उतरने की पुष्टि की लेकिन उसने साथ ही कहा कि यान कोई संकेत नहीं दे रहा है। (D. Ducros/ESA via AP/File)

पृथ्वी पर मौजूद नियंत्रक मंगल पर जीवन से जुड़ी साहसिक खोज के तहत वहां उतरने वाले यूरोप के एक छोटे यान की स्थिति को लेकर समाचार मिलने का आज व्याकुलता एवं घबराहट से इंतजार कर रहे हैं लेकिन संभवत: यान मंगल के प्रभाव को सहन नहीं कर पाया। छोटे बच्चों के खेलने के लिए बने पैडलिंग पूल जितने आकार के ‘शियापारेल्ली’ यान को मंगल पर अंतरराष्ट्रीय समयानुसार बुधवार (19 अक्टूबर) दोपहर दो बजकर 48 मिनट पर उतरना था। यूरोपीय स्पेस एजेंसी (ईएसए) ने कुछ ही घंटों बाद विमान के मंगल पर उतरने की पुष्टि की लेकिन उसने साथ ही कहा कि यान कोई संकेत नहीं दे रहा है जिसने इस अभियान के असफल रहने की आशंका को जन्म दे दिया है।

यूरोप की मंगल पर उतरने की 13 वर्ष पहले की गई पहली कोशिश असफल रही थी। ईएसए के शियापारेल्ली प्रबंधक थिएरी ब्लांक्वैर्ट ने एएफपी से कहा, ‘यान मंगल पर उतर गया है, यह बात निश्चित है।’ उन्होंने दारमस्ताद में अभियान नियंत्रण कक्ष से कहा,‘‘मैं यह नहीं जानता कि वह सही सलामत मंगल पर उतरा है, या वह किसी चट्टान से टकरा गया है या वह केवल संचार स्थापित नहीं कर पा रहा है।’ उन्होंने कहा कि वह इस बात को लेकर ‘बहुत आशावान’ नहीं है कि यान सही सलामत है। यदि यह अभियान असफल रहता है तो यह यूरोप की मंगल पर उतरने की लगातार दूसरी असफल कोशिश होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 22, 2016 12:32 pm

सबरंग