ताज़ा खबर
 

माली में 3 दिन का राष्ट्रीय शोक, 10 दिन के लिए ‘आपातकाल’

जिहादियों द्वारा एक होटल पर किए गए हमले में 27 लोगों के मारे जाने के बाद माली शोकाकुल है और इस हमले के चलते देश में तीन दिन के राष्ट्रीय शोक मनाया जा रहा है..
Author बमाको | November 21, 2015 17:04 pm
आतंकियों ने शुक्रवार (20 नवंबर 2015) को राजधानी बमाको के रैडिसन होटल पर कब्जा कर 27 लोगों की हत्या कर दी थी। (एपी फाइल फोटो)

जिहादियों द्वारा एक होटल पर किए गए हमले में 27 लोगों के मारे जाने के बाद माली शोकाकुल है और इस हमले के चलते देश में तीन दिन के राष्ट्रीय शोक मनाया जा रहा है। आतंकवादी हमले के बाद देश में 10 दिन के आपातकाल की घोषणा कर दी गयी है। अल्जीरियाई आतंकवादी मुख्तार बेलमुख्तार की अगुवाई में अल कायदा से जुड़े संगठन अल मुराबितून ने यह हमला किया। अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा बलों और माली के सैनिकों ने बमाको में रेडिसन ब्लू होटल में घुसकर आतंकवादियों की घेराबंदी समाप्त की।

पेरिस में एक सप्ताह पहले हुए हमलों के बाद आतंकी खतरे को लेकर पैदा हुई आशंकाओं के बीच यह हमला हुआ है। पेरिस हमलों में 129 लोग मारे गए थे जिसकी जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट समूह ने ली थी। इसी संगठन ने कुछ सप्ताह पहले मिस्र में एक रूसी यात्री विमान को मार गिराने का भी दावा किया है।

हमलों को लेकर माली सरकार ने शुक्रवार आधी रात से दस दिन के लिए राष्ट्रीय स्तर पर आपातकाल की घोषणा कर दी है। पीड़ितों की याद में तीन दिन के शोक का भी एलान किया गया है। इन हमलों में तीन चीनी, एक अमेरिकी और एक बेल्जियाई नागरिक भी मारे गए हैं।

माली सुरक्षा सूत्रों ने बताया कि हमले में बंधक बनाए गए 100 से अधिक लोगों में से 27 मारे गए हैं जबकि तीन आतंकवादी मारे गए या उन्होंने खुद को विस्फोटकों से उड़ा लिया।

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आज इस ‘भयावह’ हमले की निंदा करने के साथ ही कहा कि ‘इस बर्बरता ने चरपमंथी हिंसा से निपटने की हमारी प्रतिबद्धता को और गहरा किया है।’

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हांग लेई ने पीड़ितों और उनके परिजन के प्रति संवेदना जताते हुए कहा, ‘चीन आक्रोश व्यक्त करता है और इस अत्याचार की कड़ी निंदा करता है।’

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने भी ‘भयानक आतंकवादी हमले’ की निंदा की और कहा कि हिंसा का मकसद देश के शांति प्रयासों को नष्ट करना था।

वर्ष 2012 में अल कायदा से जुड़े जिहादी समूहों के देश के उत्तरी हिस्से में अपना प्रभाव बढ़ाने के बाद से ही माली में अशांति बनी हुई है। इसके अगले ही साल फ्रांस की अगुवाई में चलाए गए सैन्य अभियान के बाद इस्लामी चरपमंथियों को खदेड़ दिया गया था लेकिन माली के काफी बड़े हिस्से में अराजकता बनी हुई है। शुक्रवार को राजधानी में होटल पर अंतरराष्ट्रीय समयानुसार सात बजे हमला हुआ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग