December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

ट्रंप ने कहा- अमेरिकी अर्थव्यवस्था चरमरा रही है, भारत की वृद्धि दर का दिया हवाला

डोनाल्ड ट्रंप ने अर्थव्यस्था में जान फूंकने की हिलेरी क्लिंटन की योजना की आलोचना की तथा उनकी कराधान योजना को त्रासद बताया।

Author लॉस वेगास | October 20, 2016 13:16 pm
लॉस वेगास के नेवादा विश्वविद्यालय में तीसरी और अंतिम बार राष्ट्रपति पद की बहस में एक-दूसरे का सामना करते डोनाल्ड ट्रंप और हिलेरी क्लिंटन। (REUTERS/Joe Raedle/19 Oct, 2016)

रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका की अर्थव्यवस्था की तुलना करने के लिए भारत और चीन की उच्च वृद्धि दरों का हवाला दिया और कहा कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था चरमरा रही है। उन्होंने अर्थव्यस्था में जान फूंकने की अपनी डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन की योजना की आलोचना की तथा उनकी कराधान योजना को त्रासद बताया। चुनाव से महज तीन हफ्ते पहले यहां नेवादा विश्वविद्यालय में दोनों उम्मीदवारों का तीसरी और अंतिम बार राष्ट्रपति पद की बहस में एक दूसरे से आमना-सामना हुआ। उन्होंने अर्थव्यवस्था, परमाणु हथियारों, रूस और अमेरिकी राष्ट्रपति पद के उनके फिटनेस के मुद्दों पर आरोप-प्रत्यारोप लगाया।

फॉक्स न्यूज के क्रिस वालेस द्वारा अर्थव्यवस्था के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा, ‘मैंने भारत के कुछ उच्च दृष्टांतों को छोड़ दिया। वे आठ फीसदी की दर से वृद्धि कर रहे हैं। चीन सात फीसदी की दर से वृद्धि कर रहा है और यह उनके लिए बहुत छोटी संख्या है। जब हमारी रिपोर्ट आयी तब हम जिस दर से वृद्धि कर रहे हैं वह एक फीसदी से थोड़ा ऊपर है। मैं समझता हूं कि यह नीचे जा रही है।’ उन्होंने कहा कि अमेरिका की नौकरीसंबंधी रिपोर्ट बहुत ही खराब है और देश अपना कारोबार गंवा रहा है। उन्होंने कहा, ‘पिछले हफ्ते, जैसा कि आप जानते हैं कि वे बहुत ही खराब रिपोर्ट के साथ सामने आए।’

ट्रंप ने कहा, ‘सही कहा जाए तो, हम अब चीजें नहीं बना रहे। हमारे उत्पाद चीन से आ रहे हैं, वियतनाम से आ रहे हैं और दुनियाभर से आ रहे हैं।’ उन्होंने हिलेरी के पति पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन को उत्तर अमेरिकी मुक्त व्यापार संधि के लिए दोषी ठहराया और कहा कि यह अबतक किए गए सबसे खराब संधियों में एक है। हिलेरी ने कहा कि अर्थव्यवस्था में जान फूंकने की उनकी योजना में धनवानों द्वारा अपने उचित हिस्से का भुगतान करना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 20, 2016 1:16 pm

सबरंग