ताज़ा खबर
 

‘डोनाल्ड ट्रंप अब नहीं चाहते देश में मुसलमानों के प्रवेश पर प्रतिबंध’

माइक पेंस ने कहा कि ट्रंप ने आतंकवाद के साथ समझौता करने वाले देशों और क्षेत्रों से आव्रजन रोकने की आवश्यकता को रेखांकित किया है।
Author वॉशिंगटन | October 7, 2016 15:49 pm
पेंसिल्वानिया में एक चुनाव रैली को संबोधित करते अमेरिकी उप राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार माइक पेंस। (John Rucosky/The Tribune-Democrat via AP/6 Oct, 2016)

अमेरिकी उप राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार माइक पेंस ने कहा है कि राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप अब देश में मुसलमानों के प्रवेश पर पूर्ण प्रतिबंध नहीं चाहते हैं जो उनके सबसे भड़काऊ नीति प्रस्तावों में से एक से अलग हटने का संकेत है। पेंस ने गुरुवार (6 अक्टूबर) को सीएनएन से एक साक्षात्कार में कहा, ‘डोनाल्ड ट्रंप का अब यह रुख नहीं है।’ उन्होंने यह बात तब कही जब उनसे देश में मुसलमानों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने के ट्रंप के बयान के बारे में पूछा गया था। पेंस ने कहा, ‘डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी लोगों की सुरक्षा को पहली प्राथमिकता देने के लिए कहा है, वह यह स्पष्ट कर चुके हैं कि हमारा रुख यह है कि हम उन देशों से आव्रजन रोकने जा रहे हैं जिन्होंने आतंकवाद के साथ समझौता किया है।’

उन्होंने कहा कि ट्रंप ने आतंकवाद के साथ समझौता करने वाले देशों और क्षेत्रों से आव्रजन रोकने की आवश्यकता को रेखांकित किया है। पेंस ने बाद में पेंसिल्वानिया में एक चुनाव रैली में ओबामा प्रशासन की आलोचना की और ईरान के परमाणु कार्यक्रम तथा तेहरान से चार अमेरिकी बंधकों को छोड़े जाने का संदर्भ देते हुए कहा कि उसने ईरानियों को फिरौती के रूप में धन दिया। अमेरिकी सरकार ने इस आरोप से इनकार किया है। पेंस ने कहा, ‘मैं आपसे वायदा करता हूं। डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने पर हम आतंकवादियों को फिरौती नहीं देंगे। यदि वे अमेरिकियों को बंधक बनाएंगे या हमारे लोगों को नुकसान पहुंचाएंगे तो उन्हें इसकी कीमत चुकानी होगी।’

उन्होंने कहा कि अमेरिका अन्य चार साल के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रशासन को नहीं रख सकता। पेंस ने कहा, ‘हम और चार साल के लिए अपने दुश्मनों से माफी मांगने और अपने मित्रों का साथ छोड़ने वाली स्थिति नहीं रख सकते। अमेरिका की सुरक्षा के लिए, विश्व की सुरक्षा के लिए, अमेरिका को मजबूत होने की आवश्यकता है। और जब डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति बनेंगे तो हम विश्व मंच पर एक बार फिर अमेरिकी शक्ति के साथ नेतृत्व करेंगे।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 7, 2016 3:49 pm

  1. No Comments.