December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव का नतीजा मानने से इनकार कर सकते हैं डोनाल्ड ट्रंप

हिलेरी ने राष्ट्रपति पद की तीनों बहस में जीत प्राप्त की है लेकिन सीएनएन ने रेखांकित किया कि तीसरी एवं अंतिम बहस में उनकी जीत का अंतर कम हुआ है।

Author लॉस वेगास | October 20, 2016 17:11 pm
डोनाल्ड ट्रंप अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के लिए रिपब्लिकन पार्टी के कैंडिडेट हैं। (फाइल फोटो)

अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव की तीसरी एवं अंतिम बहस के दौरान रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार (20 अक्टूबर) को यह कह कर अमेरिका को स्तब्ध कर दिया कि यदि उन्हें लगता है कि अगले महीने होने वाले चुनाव में ‘धांधली’ हुई है तो वह उसके परिणाम को स्वीकार नहीं करेंगे जिसके बाद हिलेरी क्लिंटन ने तीखी प्रतिक्रिया दी। सीएनएन के अनुसार गुरुवार की बहस के बाद हिलेरी 13 प्रतिशत अंकों की बढ़त के साथ विजेता के रूप में उभरीं। 70 वर्षीय ट्रंप से यहां नेवादा विश्वविद्यालय में हुई बहस के दौरान जब यह पूछा गया कि क्या वह चुनाव परिणाम को स्वीकार करेंगे, उन्होंने कहा, ‘मैं उसी समय इस पर विचार करूंगा। मैं अभी इससे संबंधित किसी बात पर विचार नहीं कर रहा हूं।’

प्राइमटाइम में करीब 90 मिनट चली इस बहस के दौरान ट्रंप ने मौजूदा चुनाव में धांधली होने की बात दोहराते हुए कहा, ‘मैं आपको उसी समय बताऊंगा। मैं आपको रहस्य की स्थिति में रखूंगा।’ ट्रंप ने कहा, ‘मीडिया बहुत बेईमान है और बहुत भ्रष्ट है और वह चीजों को जिस तरह बढ़ा चढ़ाकर दिखाता है, वह हैरान करने वाला है। न्यूयार्क टाइम्स ने इस बारे में एक लेख लिखा। वे परवाह भी नहीं करते, वे इतने बेईमान हैं कि उन्होंने मतदाताओं के दिमाग में जहर घोल दिया है लेकिन मुझे लगता है कि उनके लिए यह दुर्भाग्य की बात है कि मतदाता इस बात को समझ रहे हैं।’

सीएनएन ने ट्रंप की इन टिप्पणियों के बारे में कहा, ‘चुनाव जीतने के बाद कानूनी तौर पर उत्तराधिकारी माने जाने वाले व्यक्ति को पूर्ववर्ती राष्ट्रपति द्वारा सत्ता के निर्विवाद और शांतिपूर्ण हस्तांतरण संबंधी अमेरिकी राजनीति के इस मौलिक सिद्धांत पर इस रुख से खतरा मंडराने लगा है।’ दरअसल मध्यस्थ फॉक्स न्यूज के क्रिस वालेस ने कहा था कि अमेरिकी लोकतंत्र की विशेषता माना जाने वाला सत्ता का शांतिपूर्ण हस्तांतरण इस बात पर निर्भर करता है कि हारने वाला उम्मीदवार चुनावी परिणाम की वैधता को स्वीकार करे। इसके बाद ट्रंप ने यह बयान दिया।

हिलेरी ने चुनाव परिणाम स्वीकार करने से उनके प्रतिद्वंद्वी के इनकार को ‘खतरनाक’ करार दिया और उन्होंने यहां तक कहा कि ट्रंप रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के हाथ की ‘कठपुतली’ हैं। पूर्व विदेश मंत्री ने कहा, ‘वह आपत्तिजनक बात कर रहे हैं और हमारे लोकतंत्र को नीचा दिखा रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘मैं चकित हूं कि दो बड़े दलों में से एक का उम्मीदवार यह रुख अपनाएगा।’ हिलेरी ने कहा, ‘जब कभी डोनाल्ड सोचते हैं कि चीजें उनके पक्ष में नहीं जा रहीं, वह तभी दावा करते हैं जो चीज उनके खिलाफ है, उसमें धांधली हो रही है।’
उन्होंने कहा कि उन्होंने कई बार एफबीआई, रिपब्लिकन प्राइमरी प्रक्रिया एवं न्यायिक प्रक्रिया पर भ्रष्ट होने का आरोप लगाया है।

हिलेरी ने कहा, ‘हमारा लोकतंत्र इस तरह काम नहीं करता। हमें 240 साल हो गए हैं। हमारे देश में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव हुए है। हमने चुनाव परिणाम पसंद नहीं होने के बावजूद उन्हें स्वीकार किया है। आम चुनाव के दौरान बहस के मंच पर खड़े होने वाले हर व्यक्ति से यही उम्मीद की जाती है।’ ट्रंप ने कहा कि अमेरिकी मतदाता इतने समझदार है कि वह चीजों को समझ सकते हैं। इस बीच सीएनएन ने अपने सर्वेक्षण का परिणाम जारी करते हुए कहा कि बहस देखने वालों में से कुल 52 प्रतिशत मतदाताओं के अनुसार हिलेरी के अच्छी बहस की जबकि 39 प्रतिशत मतदाताओं ने कहा कि ट्रंप विजेता है।

हिलेरी ने राष्ट्रपति पद की तीनों बहस में जीत प्राप्त की है लेकिन नेटवर्क ने रेखांकित किया कि तीसरी एवं अंतिम बहस में उनकी जीत का अंतर कम हुआ है। उन्होंने न्यूयॉर्क में पहली बहस में 35 अंकों के अंतर से और सेंट लुइस में दूसरी बहस के दौरान 23 अंकों के साथ जीत दर्ज की। ट्रंप ने बहस के दौरान हिलेरी पर यह भी आरोप लगाया कि उन पर महिलाओं द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों की श्रृंखला के पीछे हिलेरी का हाथ है। इस माह की शुरुआत में लीक हुए 2005 के एक वीडियो में ट्रंप महिलाओं पर अश्लील टिप्पणी करते दिखाई दे रहे हैं। जब उनसे उन नौ महिलाओं के बारे में पूछा गया, जिन्होंने उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है तो ट्रंप ने कहा कि वे सभी ‘10 मिनट की प्रसिद्धि’ चाहती हैं।

उन्होंने कहा, ‘मुझे यह कहना होगा कि ये सभी कहानियां झूठी हैं। मैंने कुछ भी गलत नहीं किया इसलिए मैंने यहां बैठी अपनी पत्नी से भी माफी नहीं मांगी।’ बहस के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने नागरिकों को हथियार रखने का अधिकार देने वाले द्वितीय संशोधन को बरकरार रखने के पक्ष में तर्क दिया जबकि उनकी डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन ने हथियार रखने वालों के हाथों होने वाली हत्याओं को रोकने के लिए कदम उठाने की अपील की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 20, 2016 5:11 pm

सबरंग