December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

डोनाल्ड ट्रंप एनएसए के रूप में पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल फ्लिन के नाम पर लगा सकते हैं मुहर

फ्लिन ने अफगानिस्तान और इराक में आतंकी नेटवर्क को ध्वस्त करने में अहम भूमिका निभाई थी।

Author वॉशिंगटन | November 18, 2016 15:29 pm
वर्जीनिया में एक चुनावी कैंपेन टाउनहॉल मीटिंग के दौरान रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप (बाएं) बोलते हुए और साथ में लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) माइकल फ्लिन। (REUTERS/Mike Segar/6 Sep, 2016)

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने विश्वस्त सैन्य सलाहकार लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) माइकल फ्लिन को अपना राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार चुन सकते हैं। फ्लिन ने अफगानिस्तान और इराक में आतंकी नेटवर्क को ध्वस्त करने में अहम भूमिका निभाई थी। स्पष्ट वक्ता और अपने काम में माहिर खुफिया पेशेवर 56 वर्षीय फ्लिन उन आला सैन्य अधिकारियों में से एक हैं जिन्होंने ट्रंप का समर्थन किया था और बीते एक साल से भी ज्यादा समय से वह उनके सबसे करीबी सैन्य सलाहकार के तौर पर काम कर रहे हैं। वॉशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, ‘ट्रंप प्रशासन, जो अभी गठित हो ही रहा है, उसमें राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित सर्वाधिक महत्वपूर्ण पद सेवानिवृत्त और तीन सितारा प्राप्त जनरल को मिल सकता है जिन्होंने अफगानिस्तान और इराक में आतंकी नेटवर्कों को ध्वस्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। लेकिन उनके डोनाल्ड ट्रंप के नेतृत्व में सियासी उग्रवाद में शामिल होने से उनके सहकर्मी हैरत में हैं और निराश भी हैं।’

चुने जाने पर वे एनएसए के तौर पर सुजेन राइस की जगह लेंगे। अगस्त माह में फ्लिन की एक किताब आई थी जिसमें उन्होंने पाकिस्तान को दी जाने वाली मदद बंद करने की वकालत की थी और कहा था मदद जारी रखने का मलतब जिहादियों को फायदा पहुंचाना होगा। पेंटागन की शीर्ष खुफिया एजेंसी डिफेंस इंटेलिजेंस एजेंसी के निदेशक पद से उन्हें वर्ष 2014 में हटा दिया गया था। इसके तुरंत बाद उन्होंने सार्वजनिक तौर पर राष्ट्रपति बराक ओबामा के खिलाफ आवाज बुलंद की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 18, 2016 3:29 pm

सबरंग