December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

अमेरिका: डोनाल्ड ट्रंप ने 30 लाख प्रवासियों को फौरन वापस भेजने का संकल्प दोहराया

आपराधिक रिकॉर्ड वाले लोगों, गिरोह के सदस्यों, नशे के डीलरों पर शिकंजा कसेंगे, ये बीस लाख या तीस लाख लोग हो सकते हैं, हम उन्हें देश से बाहर निकाल देंगे या हम उन्हें जेलों में बंद कर देंगे।’

Author वॉशिंगटन | November 14, 2016 03:22 am
न्यूयॉर्क में एक रैली को संबोधित करते अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (AP Photo/ Evan Vucci/9 Nov, 2016)

आव्रजन पर अपने कड़े रूख के तहत अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने तीस लाख प्रवासियों को तुरंत प्रत्यर्पित करने का संकल्प जताते हुए कहा, ‘‘हम उन्हें अपने देश से बाहर कर देंगे या हम उन्हें जेल में बंद करेंंगे।’’ ट्रम्प ने सीबीएस न्यूज से कहा, ‘‘हम अपराधियों या आपराधिक रिकॉर्ड वाले लोगों, गिरोह के सदस्यों, नशे के डीलरों पर शिकंजा कसेंगे, ये बीस लाख या तीस लाख लोग हो सकते हैं, हम उन्हें देश से बाहर निकाल देंगे या हम उन्हें जेलों में बंद कर देंगे।’’व्यवसायी से नेता बने 70 वर्षीय ट्रम्प ने साक्षात्कार के प्रसारित होने से पहले जारी संक्षिप्त हिस्से में कहा, ‘‘हम उन्हें देश से बाहर निकालने जा रहे हैं, वे यहां अवैध रूप से रह रहे हैं।’’बहरहाल सदन के अध्यक्ष और रिपब्लिकन पार्टी के नेता पॉल रयान ने अलग सुर अपनाते हुए कहा कि ट्रम्प के प्रचार में इस बात पर जोर देने के बावजूद सांसद बिना दस्तावेज वाले प्रवासियों को पकड़ने और प्रत्यर्पित करने के लिए प्रत्यर्पण बल का गठन करने को तैयार नहीं हैं।

राष्ट्रपति पद के लिए संभावित रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अमेरिका आने वाले मुसलमानों पर अस्थायी पाबंदी का उनका प्रस्ताव महज एक सुझाव नहीं है और यदि वह व्हाइट हाऊस के लिए निर्वाचित होते हैं तो वह सीरियाई शरणार्थियों को बिना उपयुक्त जांच-परख के (अमेरिका में) नहीं आने देंगे। ट्रंप ने गुरुवार (12 मई) रात फॉक्स न्यूज से कहा, ‘‘नहीं, मैं सीरिया से उपयुक्त जांच-परख के बिना लोगों को आने नहीं दूंगा। ’’ उनके एक दिन पहले के इस बयान पर उनका प्रस्ताव बस एक सुझाव है, एक सवाल के जवाब में रीयल एस्टेट क्षेत्र के कारोबारी ने कहा ऐसा नहीं है और वह इसे लागू करेंगे क्योंकि सीरियाई शरणार्थी हजारों की संख्या में आ रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम नहीं जानते कि वे कौन हैं और यदि आप प्रवासन पर नजर डालें तो आपको ढेर सारे युवक मिलेंगे। आप महिलाओं की ओर देखें। महिलाएं और बच्चे कहां हैं। तुलनात्मक दृष्टि से ज्यादा नहीं हैं।’’ ट्रंप ने कहा, ‘‘हम सीरिया से लोगों को आने नहीं दे सकते और मैं इसे रोकूंगा और मैं इसे तत्काल रोकूंगा। हमारे देश में हजारों लोग आ रहे हैं। हमें नहीं मालूम कि वे कौन हैं। कोई कागजात नहीं हैं। कोई दस्तावेज नहीं हैं।’’ उन्होंने सुझाव दिया कि सीरिया में सुरक्षित क्षेत्र बनाये जाने चाहिएं और वह खाड़ी देशों से उसके लिए भुगतान करवायेंगे क्योंकि हमारे देश के पास धन नहीं है। ट्रंप के विरोधियों ने उनकी विवादास्पद नीति की आलोचना की है।

वहीं अमेरिका में ट्रंप के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शनों में हजारों लोग शामिल हुए हैं। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप की चौंकाने वाली जीत के खिलाफ जारी प्रदर्शनों के चौथे दिन हजारों लोग सड़कों पर मार्च में शामिल हुए। प्रदर्शन लॉस एंजिलिस, न्यूयार्क और शिकागो जैसे बड़े शहरों के साथ ही वार्सेस्टर, मैसाचुसेट्स और लोवा सिटी, लोवा में कल कुल मिलाकर शांतिपूर्ण रहे। यद्यपि इंडियानापोलिस में प्रदर्शनों के दौरान दो पुलिस अधिकारी मामूली रूप से घायल हो गए।

प्रदर्शनकारियों ने न्यूयार्क के यूनियन स्क्वायर के पास एकत्रित हुए और उसके बाद ट्रंप टावर की ओर बढ़े जहां उन्हें पुलिस ने बैरिकेड से रोक दिया।
राष्ट्रपति चुनाव में जीते रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार ट्रंप अपने अपार्टमेंट में ही रहे जहां वह अपने सहयोगियों के साथ चर्चा कर रहे थे। रैली में शामिल लोगों में फिल्म निर्माता माइकल मूरे शामिल थे जिन्होंने ट्वीट करके मांग की कि ट्रंप यह पद नहीं संभालें।फैशन डिजाइनर नाओमी एबड :30: ने भी इससे सहमति जतायी।

पुलिस प्रमुख ट्राय रिग्स ने कहा कि इंडियानापोलिस में शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया जिसमें दो पुलिस अधिकारी मामूली रूप से घायल हो गए। कुछ प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की जिसमें यह भी शामिल था कि ‘‘पुलिस को मार डालो’’। इस पर पुलिस ने सात प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया।पुलिस ने इस टकराव के दौरान भीड़ पर आंसू गैस के गोले छोड़े।पोर्टलैंड, ओरेगान में उग्र प्रदर्शनकारियों ने चौथे दिन शनिवार को मार्च किया। यद्यपि पुलिस प्रमुख और महापौर ने शांति की अपील की थी।

अमेरिका: सिएटल में ट्रंप के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में फायरिंग; कई लोग घायल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 14, 2016 1:37 am

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग