December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

डोनाल्‍ड ट्रंप की वेबसाइट पर फिर से आया अमेरिका में मुसलमानों को बैन करने वाला बयान

डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका के राष्ट्रपति का चुनाव जीत लिया है।

अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (Photo Source: AP/File)

अमेरिका के राष्ट्रपति का चुनाव जीतने वाले डोनाल्ड ट्रंप का ‘मुस्लिमों को बैन’ करने वाला बयान चुनाव के दिन उनकी वेबसाइट से हटा लिया गया था। लेकिन चुनाव जीतने के बाद एक बार फिर वह बयान वेबसाइट पर प्रकाशित कर दिया गया। ट्रंप की वेबसाइट पर यह बयान राष्ट्रपति चुनाव से एक दिन पहले तक था। बता दें, पिछले साल दिसंबर महीने में ट्रंप ने बयान दिया था कि अमेरिका में मुस्लिमों की एंट्री पर बैन लगा दिया जाना चाहिए। इसके बाद उनके इस बयान की काफी आलोचना हुई थी। उनकी प्रतिद्वंदी हिलेरी क्लिंटन सहित विश्व के नेताओं ने भी इस बयान की निंदा की थी। वहीं लोगों ने सोशल मीडिया पर इस बयान को लेकर ट्रंप पर निशाना साधा था। ट्रंप ने यह बयान अमेरिका के सैन बर्नार्डिनो के कम्युनिटी सेंटर पर फायरिंग के बाद दिया था। इस हमले में दो दर्जन से ज्यादा लोग मारे गए थे। ट्रंप ने कहा था, ‘मुसलमानों की अमेरिका में एंट्री पर तब तक बैन लग जाना चाहिए, जब तक देश के नेता ये नहीं ढूंढ़ लेते कि दिक्कत कहां है?’ हालांकि, ट्रंप का यह बयान वेबसाइट से हटाए जाने को ट्रंप के स्टाफ ने तकनीकि खामी बताई थी।

व्हाइट हाऊस में डोनाल्ड ट्रंप से मिले राष्ट्रपति बराक ओबामा; देखिए दोनों के बीच हुई बातचीत का वीडियो

इसके साथ ही एक ऐसा ही वाकया ट्रंप के साथ और हुआ, गुरुवार को जब ट्रंप कांग्रेस नेताओं के साथ घूम रहे थे। तभी एक रिपोर्टर ने पूछा कि क्या वे कांग्रेस को मुस्लिमों पर बैन लगाने के लिए कहेंगे। इस पर ट्रंप कोई जवाब नहीं देते हुए आगे निकल गए।

ट्रंप की वेबसाइट पर प्रकाशित बयान। ट्रंप की वेबसाइट पर प्रकाशित बयान।

बता दें, मई महीने में ट्रंप ने मुस्लिमों की अमेरिका में एंट्री पर बैन लगाए जाने का बयान एक बार फिर दोहराया। इसके बाद हिलेरी क्लिंटन ने ट्रंप पर निसाना साधा था। हिलेरी ने कहा था कि उनकी विभाजनकारी और खतरनाक दिशा को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। ट्रंप ने अपने विवादास्पद भाषण को वापस लेने से इंकार कर दिया था। सीएनएन के साथ साक्षात्कार में, ट्रंप ने मुस्लिमों का अमेरिका में प्रवेश अस्थायी तौर पर प्रतिबंधित करने वाला बयान वापस नहीं लिया था। इसी के साथ, उन्होंने कहा था कि वह आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने में मुस्लिम देशों के साथ मिलकर काम करेंगे। लेकिन ट्रंप ने यह तर्क भी दिया कि इसकी जिम्मेदारी पहले उन देशों पर है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 2:14 pm

सबरंग