ताज़ा खबर
 

ढाका कैफे हमला: संदिग्ध की पत्नी का दावा, मेरा पति बेकसूर है

एक जुलाई को पांच हथियारबंद लड़कों ने गुलशन कैफे पर कब्जा कर लिया था और एक भारतीय सहित 22 बंधकों की हत्या कर दी थी।
Author ढाका | August 11, 2016 10:29 am
ढाका के राजनयिक इलाके के एक रेस्तरां में बंधक संकट के बाद रास्ते को बंद कर दिया गया। (एपी फोटो)

ढाका कैफे आतंकवादी हमले की साजिश करने वालों में से एक संदिग्ध के रूप में देखे जा रहे बांग्लादेशी-ब्रिटिश विश्वविद्यालय के शिक्षक की पत्नी का कहना है कि आतंकवादियों ने उनके पति का प्रयोग ‘मानव ढाल’ के रूप में किया। उच्च सुरक्षा क्षेत्र में हुए इस आतंकवादी हमले में 22 लोग मारे गए थे। गुलशन आतंकवादी हमले के संदिग्ध हसनत रजा करीम की पत्नी शरमीना प्रवीण ने मंगलवार (9 अगस्त) को एक बयान में कहा, ‘जब आतंकवादियों को पता चला कि हसनत अपने परिवार के साथ आर्टिसन बेकरी में खाना खा रहे हैं तो, उन्होंने उन्हें अलग तरह के काम के लिए चुना। हमलावर जानते थे कि हसनत ऐसी हालत में कभी भी अपने परिवार को छोड़कर नहीं भागेंगे।’

ढाका ट्रिब्यून की खबर के अनुसार, फिलहाल हिरासत में मौजूद 47 वर्षीय करीम की पत्नी का कहना है कि हमलावरों ने उसके पति का मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल किया। हसनत और दो बच्चों के साथ स्पैनिश कैफे गए प्रवीण का कहना है कि वे जांच में पुलिस का सहयोग जारी रखेंगे ताकि उनकी रिहाई जल्दी हो सके। उसने कहा कि वे अपनी बेटी का 13वां जन्मदिन मनाने के लिए रेस्तरां गए थे। प्रवीण ने कहा, ‘हमलावरों को जब पता चला कि हम हसनत के परिवार के सदस्य हैं, उन्होंने इसका फायदा उठाया। वह जानते थे कि वे हमें नहीं छोड़ेंगे। इसलिए रात को उन्होंने कई तरह के काम कराने के लिए उन्हें चुना। इसलिए उन्होंने मानव ढाल की तरह उनका इस्तेमाल किया।’ एक जुलाई को पांच हथियारबंद लड़कों ने गुलशन कैफे पर कब्जा कर लिया था और एक भारतीय सहित 22 बंधकों की हत्या कर दी थी। सभी हमलावरों की उम्र 20-25 साल के बीच थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.