ताज़ा खबर
 

अमेरिका: गे नाइट क्‍लब के हमलावर को थी समलैंगिकों से नफरत, रोज करता था बीवी की पिटाई

फ्लोरिडा के गे नाइट क्‍लब में हमलावर उमर मतीन ने अंधाधुंध गोलियां बरसाई थीं। हमले में 50 लोगों की मौत हो गई थी तथा 53 लोग घायल हैं।
Author नई दिल्‍ली | June 13, 2016 13:16 pm
मतीन के पास एक स्‍माल कैलिबर हैंडगन थी और वह एक सिक्‍योर फैसिलिटी में काम करता था।

अमेरिका के एक नाइट क्‍लब में 50 लोगों की गोली मारकर हत्‍या करने वाले 29 साल के उमर मतीन का पिछला रिकॉर्ड हिंसा से भरा रहा है। अमेरिकी मीडिया द्वारा जब मतीन के रिश्‍तेदारों से बात की गई, जो उन्‍होंने बताया कि वह एक सिक्‍योरिटी ऑफिसर की नौकरी करता था। वह धर्म के पीछे पागल नहीं था, मगर समलैंगिकता-विरोधी सोच वाला व्‍यक्ति था जो अपनी पिछली पत्‍नी को मारता-पीटता था।

मतीन के अफगानी मूल के पिता मीर सिद्दीकी ने भी कहा कि उन्‍हें लगता है कि उनका बेटा समलैंगिकों के प्रति नफरत की वजह से इतने लोगों की जान लेने पर उतारू हो गया, इसमें उसके मुस्लिम धर्म का कोई हाथ नहीं है। NBC News से बात करते हुए उन्‍होंने कहा कि हाल ही में उमर मायामी में एक गे कपल को किस करते देख गुस्‍सा हो गया था। मतीन के पिता ने पूरी घटना के लिए माफी मांगी है।

REAL ALSO: अमेरिका: गे क्लब में अंधाधुंध गोलीबारी में 50 की मौत, 53 घायल, 5 घंटे बाद हमलावर भी मारा गया

READ ALSO: FBI के राडार पर था फ्लोरिडा के नाइट क्‍लब में गोलियां बरसाने वाला उमर मतीन , पिता ने मांगी माफी

एक इंटरव्‍यू में मतीन की पूर्व पत्‍नी, जिसने मतीन को 2011 में जान जाने के डर से छोड़ दिया था, ने कहा कि वह बहुत हिंसक था। The Washington Post से बातचीत में उसने बताया, “वह दिमागी रूप से ठीक नहीं था। वह मुझे मारता था। वह बस घर लौटता और मुझे पीटना शुरू कर देता क्‍योंकि मैंने कपड़े नहीं धोए होते थे।”

READ ALSO: अमेरिका: नाइट क्‍लब हमले की दहशत, प्रत्‍यक्षदर्शी बोला- मैं यही दुआ करता रहा कि कोई गोली मुझे ना लगे

कुछ रिपोर्ट के अनुसार, मतीन के पास एक स्‍माल कैलिबर हैंडगन थी और वह एक सिक्‍योर फैसिलिटी में काम करता था। अन्‍य मीडिया रिेपोर्ट्स में कहा गया है कि वह पूर्व में अमेरिकी जांच एजेंसियों के राडार पर था।

SEE PHOTOS: अमेरिका: गे क्लब पर हुआ आतंकी हमला, तस्वीरों में देखें दहशत के चार घंटे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Ajay
    Jun 13, 2016 at 5:22 am
    Barely 36 hours after one of the most positive exposures to Islam and Muslims in America, via the funeral of Muhammad Ali, it appears all of that good will be wiped away by a senseless act of violence, perpetrated by a nobody who happens to have a Muslim name.
    (0)(0)
    Reply
    1. A
      Animesh
      Jun 13, 2016 at 5:23 am
      Muslims should be banned from entering other secular countries
      (0)(0)
      Reply
      1. A
        Arjun
        Jun 13, 2016 at 5:26 am
        Islam is never at peace with people of other religion... In India everyday Muslims kills innocent hindus
        (0)(0)
        Reply
        1. S
          sk
          Jun 13, 2016 at 6:28 am
          Such these enemies of humanity destro fAce of Islam, i am ashamed because of this brutal act i am so sorry world
          (0)(0)
          Reply
          1. G
            Ganesh
            Jun 13, 2016 at 5:21 am
            All terror groups ociations and countries sponsoring terrorism have to be eliminated from planet . they are like cancer to the world.
            (0)(0)
            Reply
            1. K
              Kajol
              Jun 13, 2016 at 5:28 am
              Also notice the brain dead silences of pigs in comments ..but pigs will be active here when Dadri and muzaffarnagar, godhra and malda happens..
              (0)(0)
              Reply
              1. M
                Mrinal
                Jun 13, 2016 at 5:22 am
                This religion must be abolished from earth. High time to do so
                (0)(0)
                Reply
                1. लठैत परकास बलियावा
                  Jun 13, 2016 at 7:35 am
                  ke katuve khud hote hain
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. S
                    Sanchitta
                    Jun 13, 2016 at 5:20 am
                    Every human being is having a born free intellect. Why you shall do slavery of a useless book, which is full of faults ? Enjoy life and try to realize who are you. Let the truth prevail in your life.
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. S
                      sanjay
                      Jun 13, 2016 at 8:15 am
                      अभीसमय हैमानवतावादी एवं लोकतान्त्रिक देशो से की इस आतंकवाद की समस्या का स्थाई हल बिना किसी नफा नुकसान के सभी देश मिलकर निकाले और जो राष्ट्र और जो लोग इसमें सम्ित है उसे अलग थलग करके उन पर कार्यवाही करें ! इस आतंकवाद को सामने नहीं लड़ा जा सकता है ये लोग पिछे से वार करते है जिससे सामने वाले व्यक्ति को संभलने का मौका नहीं मिलता है!जितने भी लोकतांत्रिक मानवतावादी देश है वे आज के दिन सुरक्षित नहीं जब तक ये आतंकवाद है! इनके अंदर सिर्फ नफरत के बीज है,जिसे कभी भी दूर नहीं किया जा सकता है
                      (0)(0)
                      Reply
                      1. S
                        Shiva
                        Jun 13, 2016 at 5:27 am
                        Don''t give the name of ISIS to every terrorist attack its clear cut a bigotry Islamic terrorist..
                        (0)(0)
                        Reply
                        1. Load More Comments
                        सबरंग