ताज़ा खबर
 

ब्रिटेन में फिर कैमरन सरकार

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन की कंजरवेटिव पार्टी ने आम चुनाव में पहले के तमाम अनुमानों को गलत साबित करते हुए पूर्ण बहुमत हासिल किया है और ऐसे में पिछली बार गठबंधन सरकार...
Author May 9, 2015 08:33 am
कैमरन के करिश्माई नेतृत्व में कंजरवेटिव को 650 सदस्यीय हाउस ऑफ कॉमंस में 327 सीटें मिली हैं। (फ़ोटो-पीटीआई)

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन की कंजरवेटिव पार्टी ने आम चुनाव में पहले के तमाम अनुमानों को गलत साबित करते हुए पूर्ण बहुमत हासिल किया है और ऐसे में पिछली बार गठबंधन सरकार चलाने वाले कैमरन इस बार अकेली कंजरवेटिव पार्टी की सरकार का नेतृत्व करेंगे। कैमरन के करिश्माई नेतृत्व में कंजरवेटिव को 650 सदस्यीय हाउस ऑफ कॉमंस में 327 सीटें मिली हैं। इस तरह से उसने जरूरी बहुमत के आंकड़े 326 को पार कर लिया है।

ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने पार्टी मुख्यालय में जश्न में सराबोर अपने समर्थकों से कहा, ‘यह सभी के लिए सबसे सुखद जीत है।’ साल 2010 के आम चुनाव में खंडित जनादेश आने के बाद कैमरन ने लिबरल डेमोक्रेट के साथ मिलकर सरकार बनाई थी। इस बार ऐसी नौबत नहीं है। कैमरन ने शुक्रवार दोपहर महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से मुलाकात की और फिर 10 डाउनिंग स्ट्रीट के बाहर कहा, ‘हम अपने देश में कुछ विशेष करने के निकट हैं। बहुमत की सरकार के साथ हम अपने घोषणापत्र को पूरी तरह से लागू करने में सक्षम होंगे।’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कैमरन को सबसे पहले बधाई देने वाले अंतरराष्ट्रीय नेताओं में शामिल रहे। उन्होंने अपने चुनावी नारे की पृष्ठभूमि में फेसबुक पर टिप्पणी की, ‘आपने सही कहा है, फिर से एक बार, कैमरन सरकार…मेरी शुभकामनाएं।’

ब्रिटेन में चुनाव से पहले सभी सर्वेक्षणों में कहा जा रहा था कि कंजरवेटिव और लेबर पार्टी के बीच कांटे का मुकाबला होने जा रहा है। ऐसे में फिर से गठबंधन सरकार बनने की अटकलें लगाई जा रही थीं। मुख्य विपक्षी लेबर पार्टी को लगातार दूसरे आम चुनाव में हार का मुंह देखना पड़ा है। उसने इस बार 232 सीटें जीती हैं। हार के बाद पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार एड मिलिबैंड ने लेबर पार्टी के नेता का पद छोड़ दिया है। मिलिबैंड ने कहा कि नतीजों की पूरी जिम्मेदारी मेरी है। वह समय आ गया है जब कोई दूसरा पार्टी के हित को आगे बढ़ाए।

पिछले चुनाव में शानदार प्रदर्शन करने वाली लिबरल डेमोक्रेट इस चुनाव में हाशिए पर चली गई। उसे इस बार सिर्फ आठ सीटें मिली हैं, जबकि साल 2010 के आम चुनाव में उसने 57 सीटें जीती थीं। स्कॉटलैंड से सबसे चौंकाने वाले नतीजे आए हैं। पृथक स्कॉटलैंड राष्ट्र की समर्थक स्कॉटिश नेशनल पार्टी (एसएनपी) ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 56 सीटें जीती हैं जो पिछली बार के मुकाबले 50 ज्यादा हैं। एसएनपी की जीत को प्रधानमंत्री कैमरन के लिए आने वाले समय में मुश्किलें पैदा करने वाली मानी जा रही है। यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के अलग होने की पैरवी करने वाली यूके इंडीपेंडेंस पार्टी (यूकेआइपी) को सिर्फ एक सीट मिली है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग