ताज़ा खबर
 

ISRO के 104 सैटेलाइट लॉन्च पर चीनी मीडिया बोला: हमसे अच्छा काम कर रहा है भारत, उनसे कुछ सीखे चीन

चीन से पहले भारत के मंगल पर पहुंच जाने की बात को रेखांकित करने के साथ-साथ झांग ने पिछले सप्ताह भारत द्वारा एक ही रॉकेट के जरिए 104 उपग्रहों को कक्षा में स्थापित कर देने की सराहना की।
Author बीजिंग। | February 21, 2017 10:04 am
आज यानी 15 फरवरी को छोड़े गए 104 सैटलाइट्स में से भारत के कुल 3 सैटलाइट्स थे, बाकी 101 उपग्रह विदेशी थे।

भारत की अतंरिक्ष एजेंसी इसरो (ISRO) द्वारा एकसाथ 104 सैटेलाइट लॉन्च करने पर चीन की तारीफ की है। चीनी अधिकारियों का कहना है कि सैटेलाइट लॉन्च टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देने के मामले में भारत ने चीन से अच्छा काम किया है। इसके कारण बीजिंग दुनिया के स्मॉल सैटेलाइट मार्केट में प्रतिस्पर्धा करने के लिए अपने रॉकेट प्रक्षेपणों का व्यवसायीकरण तेज करने के लिए प्रेरित हो सकता है।

शंघाई इंजीनियरिंग सेंटर फॉर माइक्रोसेटेलाइट्स के न्यू टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट के डायरेक्टर ने कहा, ‘‘व्यवसायिक अंतरिक्ष के बढ़ते बाजार के लिए चल रही वैश्विक दौड़ में देश की प्रतिस्पर्धात्मक क्षमता के बीच, इस प्रक्षेपण ने दिखा दिया है कि भारत अंतरिक्ष में कम खर्च में व्यवसायिक उपग्रह भेज सकता है।’’ चीन के सरकारी मीडिया ने ‘भारतीय उपग्रह प्रक्षेपण ने तेज की अंतरिक्षीय दौड़’ शीर्षक वाली रिपोर्ट में चीनी अधिकारियों के हवाले से कहा कि भारत की सफलता के बाद चीन अपने रॉकेट प्रक्षेपणों के व्यवसायीकरण को तेज कर सकता है। झांग का मानना है कि भारत ने अपनी लॉन्चिंग सेवाओं को अंतरराष्ट्रीय तौर पर बढ़ावा देने में चीन से अच्छा काम किया है। चीन से पहले भारत के मंगल पर पहुंच जाने की बात को रेखांकित करने के साथ-साथ झांग ने पिछले सप्ताह भारत द्वारा एक ही रॉकेट के जरिए 104 उपग्रहों को कक्षा में स्थापित कर देने की सराहना की।

भारत ने रचा इतिहास
इसरो ने भारत के तीन सैटेलाइट्स समेत 104 सैटेलाइट लांच कर देश को गर्व का एक और मौका दिया। इस उपलब्धि के बाद दुनिया के कई छोटे-बड़े देश अपनी सैटेलाइट लांच कराने के लिए भारत का रुख कर रहे हैं। अंतरिक्ष विज्ञान की दुनिया में इसरो की इस कामयाबी ने भारत को अमेरिका और रूस से भी आगे खड़ा कर दिया है। आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से 1378 किलो वजन के 104 सैटलाइट्स को लेकर पीएसएलवी सी-37 रॉकेट ने बुधवार सुबह 9:28 बजे उड़ान भरी थी। इन सैटलाइट्स में भारत का कार्टोसैट-2 सैटलाइट और दो छोटे उपग्रह थे। इससे पहले जून 2016 में इसरो ने 20 सैटलाइट्स लॉन्च किए थे। इस लॉन्च के साथ ही भारत ने रूस के 37 सैटेलाइट के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है।

अतंराष्ट्रीय सेक्शन की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें-

वीडियो: 104 सैटेलाइट्स वाले PSLV-C37 का लॉन्च ISRO और भारत के लिए क्यों है महत्वपूर्ण?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    asil
    Feb 21, 2017 at 7:38 am
    अच्छा जी
    Reply
  2. A
    asil
    Feb 21, 2017 at 7:39 am
    क्या सेना और इसरो मैं आरक्षयं लागु करना चाहिए ???
    Reply
सबरंग