December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

भारत ने ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का इस्तेमाल पाकिस्तान को हाशिए पर डालने के लिए किया: चीनी मीडिया

इस सम्मेलन में भारत ने खुद को ‘‘एक पाक साफ’’ देश के तौर पर पेश करते हुए एनएसजी की सदस्यता और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट के लिए अपनी दावेदारी मजबूत की है।

Author बीजिंग | October 19, 2016 13:36 pm
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

चीन के सरकारी मीडिया ने बुधवार को कहा है कि भारत ने गोवा ब्रिक्स-बिम्सटेक सम्मेलन में पाकिस्तान की छवि ‘‘क्षेत्रीय परित्यक्त’’ देश की बनाकर उसे ‘‘हाशिए पर डाल दिया’’ है। इस सम्मेलन में भारत ने खुद को ‘‘एक पाक साफ’’ देश के तौर पर पेश करते हुए एनएसजी की सदस्यता और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट के लिए अपनी दावेदारी मजबूत की है।

सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में कहा गया, ‘‘भारत-पाक तनाव की असहज पृष्ठभूमि को देखते हुए भारत द्वारा बिम्सटेक का समावेश अपने आप में कहीं अधिक भू-रणनीतिक निहितार्थ लिए हुए है।’’अखबार ने कहा, ‘‘भारत ने पाकिस्तान के अलावा सभी देशों को आमंत्रित करके दरअसल पाकिस्तान को एक क्षेत्रीय परित्यक्त बना दिया।’’

उरी हमले के बाद इस्लामाबाद में होने वाले दक्षेस सम्मेलन में शिरकत न करने के भारत के फैसले का उल्लेख करते हुए अखबार ने कहा, ‘‘दक्षेस सम्मेलन के रद्द हो जाने के बाद भारत को क्षेत्रीय समूह पर इस्लामाबाद का कोई भी प्रभाव पड़ने देने से रोकने का एक दुर्लभ अवसर मिला क्योंकि यही समूह जल्दी ही पाकिस्तान की अनुपस्थिति में गोवा में एकत्र हो रहा था।’’लेख में कहा गया कि गोवा शिखर सम्मेलन के दौरान बिम्सटेक भारत के लिए एक महत्वपूर्ण बदलाव लाने में सफल रहा।

इससे पहले चीन ने  पाकिस्‍तान का बचाव करते हुए कहा था कि वह किसी देश या धर्म को आतंकवाद से जोड़े जाने के खिलाफ है। चीन का बयान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पाकिस्‍तान को आतंकवाद की जननी कहे जाने के बयान के जवाब में आया है। चीन ने वैश्विक समुदाय से कहा कि वह पाकिस्‍तान के महान बलिदानों को सम्‍मान दें। चीन की विदेश मंत्री हुआ चुनयिंग ने सोमवार को कहा कि उनका देश किसी भी देश को आतंकवाद से जोड़े जाने के खिलाफ है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 19, 2016 1:36 pm

सबरंग