ताज़ा खबर
 

चीनी मीडिया की भारत को धमकी, कहा – छोटे खेल खेलना बंद नहीं किए तो चुकानी होगी भारी कीमत

पड़ोसी देश चीन की मीडिया ने भारत पर फिर से हमला बोला है। चीनी मीडिया ग्लोबल टाइम्स में अरुणाचल प्रदेश के मुद्दे का जिक्र करते हुए भारत को महंगे परिणाम भुगतने की धमकी दी गई है।
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल)

 

पड़ोसी देश चीन की मीडिया ने भारत पर फिर से हमला बोला है। चीनी मीडिया ग्लोबल टाइम्स में अरुणाचल प्रदेश के मुद्दे का जिक्र करते हुए भारत को महंगे परिणाम भुगतने की धमकी दी गई है। लेख में लिखा गया है कि भारत ने धर्म गुरु दलाई लामा को अरुणाचल प्रदेश की यात्रा की अनुमति देकर अच्छा नहीं किया और उसको इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे और भारी कीमत चुकानी होगी। लेख में लिखा गया है, ‘वक्त आ गया है कि भारत सोचे कि हमने साउथ तिब्बत (अरुणाचल प्रदेश) की कुछ जगहों के नामों को क्यों बदल दिया। दलाई लामा कार्ड खेलना भारत के लिए सही रणनीति नहीं होगा। अगर भारत आगे भी ऐसे भद्दे खेल खेलता रहना चाहता है तो फिर अंत में उसको भारी कीमत चुकानी होगी।’

इससे पहले चीन ने अपने पास मौजूद नक्शे पर अरुणाचल प्रदेश की कुछ जगहों के नाम बदले थे। उसपर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी। भारत की तरफ से मंत्री वेंकैया नायडु ने कहा था कि अरुणाचल प्रदेश का एक-एक इंच हमारा है।

लेख में मीडिया ने चीन को सबसे ताकतवर देश बताया है। लेख में लिखा गया, ‘भारत अपने आपको चीन से मापने का हठ करता रहता है। लेकिन बॉर्डर के मामले इससे हल नहीं होते कि कौन कितना शक्तिशाली है, वर्ना चीन को भारत से बात करने के लिए किसी मेज पर बैठने की जरूरत ही नहीं पड़ती।’

बता दें कि चीन अरुणाचल प्रदेश पर अपना हक जताता रहा है। चीन अरुणाचल प्रदेश को तिब्बत का हिस्सा बताता रहा है। तिब्बत पर भी चीन ने कब्जा किया हुआ है।

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    Sanjiv gupta
    Apr 22, 2017 at 12:06 am
    Hit where it hurts the most The ball is your court Mr PM. It is your turn to rechristen Tibet as Trivistap. Pay China in the coin. If China can play a game in Arunachal Pradesh by renaming certain districts of Arunachal Pradesh calling it southern Tibet, we should have courage to change the track and our allegiance to One China Policy. Tibet was known in ancient India a Trivistap. This is the land where Pandvas were born and brought up by i. This is the land where Arjun learned use of certain weapons from Indra. (Magabharat Adi Parv and Van Parv) Furthermore, King Lalitaditya Muktapida (724 CE - 760 CE) of Karakote Dynasty ruled over Central Asia, Afganistan and Punjab. He also conquered Bhauttas or Tibetans. He sent an Amb ador to the Chinese court of Emperor Hiuen- tsung (713-755). This clearly shows that Tibet was not ruled by Chinese king, rather it was under reign of an Indian king some time in the past. If China can make absurd sovereign claims over regions adjacent
    (0)(0)
    Reply
    सबरंग