December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

चीन में पनप रहा है नया गोरखधंधा, “नकली तलाक” लीजिए और अमीर बनिए

चीन के शंघाई में रहने वाले काई दंपति के पास पहले से तीन फ्लैट थे लेकिन चौथा फ्लैट लेने के लिए उन्होंने इस साल फरवरी में तलाक ले लिया।

चीन की राजधानी बीजिंग में एक चीनी महिला। (Photo- REUTERS/Jason Lee)

चीन की आर्थिक विकास की कहानियों तो अक्सर सामने आती है लेकिन इसके साथ वहां पनपे नए तरह के गोरखधंधों की खबर कम ही सामने आती है। ब्लूमबर्ग की ताजा रिपोर्ट के अनुसार चीन में शादीशुदा लोग संपत्ति बनाने के लिए “नकली तलाक” ले रहे हैं। लोग ये तरीका पिछले कुछ सालों में रियल एस्टेट की कीमतों में आई उछाल पर रोक लगाने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से बचने के लिए अपना रहे हैं।  इस साल सितंबर में चीन में रियल एस्टेट की कीमतें पिछले सात साल के सर्वाधिक स्तर पर थीं। हालांकि सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से अक्टूबर में इन कीमतों पर थोड़ी लगाम लगी है।

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी सरकार ने इन कदमों के तहत एक परिवार द्वारा संपत्ति खरीदने को लेकर कड़े कानून बना दिए हैं। नए प्रावधान से बचने के लिए चीनी दंपत्ति कानूनी तौर पर तलाक लेकर अलग-अलग नाम से संपत्ति खरीद लेते हैं। शंघाई के रहने वाले काई दंपति ने इस साल के शुरू में कानूनी तौर पर तलाक ले लिया था। काई दंपति कपड़े की दुकान के मालिक हैं। उनके पास पहले से तीन फ्लैट थे लेकिन वो 36 लाख युआन (करीब छह करोड़ रुपये) में एक नया फ्लैट खरीदना चाहते थे। लेकिन स्थानीय प्रशासन ने जिनके पास निर्धारित संख्या से ज्यादा फ्लैट पहले से हैं उनके नए फ्लैट खरीदने पर रोक लगा दी थी, तो उन दोनों ने इस साल फरवरी में तलाक लेने का फैसला कर लिया।  मिस्टर काई ने ब्लूमबर्ग से कहा, “हम तलाक की चिंता क्यों करें? हम बहुत लंबे समय से शादीशुदा हैं।” कानूनी पचड़ों से बचने के लिए काई दंपति ने अपना पूरा नाम न देने की अपील की। काई दंपति के अनुसार, “अगर हम ये फ्लैट नहीं खरीदते तो हम अमीर बनने का मौका खो देते।”

वीडियो: पाकिस्तान ने फिर किया सीजफायर का उल्लंघन- 

काई पिछले दो दशकों में चीन में रियल एस्टेट की कीमतों में आई उछाल की तरफ इशारा करते हुए कहते हैं, “मुझे बस इतना बता है कि रियल एस्टेट ही ऐसी चीज है जिसमें कभी घाटा नहीं होगा।” चीन में इस दौरान मकानों की कीमत कुछ हजार युआन प्रतिवर्ग मीटर से करीब एक लाख युआन प्रतिवर्ग मीटर हो चुकी है। काई पूछते हैं, “क्या मकानों की कीमत कभी गिरी है? नहीं।”

चीन में मकानों की कीमत में ज्यादा उछाल 2014 के बाद आया जब चीन के केंद्रीय बैंक पीपल्स बैंक ऑफ चीन ने कर्ज लेने की शर्तों में ढील देने के साथ ही ब्याज दरें भी कम की थीं। चीन की सिक्योरिटी रेगुलेटरी कमीशन ने भी बिल्डरों को अपने बॉन्ड और स्टॉक बेचने में भी छूट दी ताकि वो नई परियोजनाएं शुरू कर सकें।

Read Also: भारतीय मूर्तिकारों ने निकाला ‘ड्रैगन’ का दम, मूर्तियों के बाज़ार से चीन ‘गायब’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 24, 2016 2:11 pm

सबरंग