December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

चीन में हैमा तूफ़ान की दस्तक, ट्रेन-हवाई सेवाओं पर असर

पूर्वानुमान के मुताबिक हैमा तूफान के कारण 117 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और 100 मिलीमीटर से अधिक बारिश होने का अनुमान है।

Author बीजिंग | October 21, 2016 14:11 pm
चीन के हांगकांग में हैमा तूफान के असर से उठती समुद्री लहरों के बाद वहां से भागते लोग। (REUTERS/Bobby Yip/21 Oct, 2016)

चीन ने दक्षिणी शेनझेन शहर में शुक्रवार (21 अक्टूबर) को हैमा तूफान के आने की आशंका के मद्देनजर चेतावनी जारी की है और कार्यालयों, कारोबारी संस्थानों एवं स्कूलों को बंद रखने का निर्देश दिया है। स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि शेनझेन के मौसम विज्ञान विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक हैमा तूफान के कारण 117 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और 100 मिलीमीटर से अधिक बारिश होने का अनुमान है। निवासियों को घरों के अंदर रहने और समूचे शहर में ऐसी स्थिति के लिए बने सुरक्षित स्थानों पर ठहरने की सलाह दी गई है।

सरकारी शिन्हुआ समाचार एजेंसी की बीती रात की रिपोर्ट के अनुसार गुआंगदोंग प्रांत के शेनझेन में आपात स्थिति से निपटने के लिए उच्चस्तरीय बचाव कार्य के इंतजाम शुरू कर दिए गए हैं। हैमा इस साल देश में आने वाला 22वां तूफान होगा। हैमा के कारण पहले ही गुआंगदोंग, जियांग्शी, फुजियान और गुआंग्शी में रेल सेवाएं बाधित हो गई हैं। गुआंगझोऊ रेलवे (ग्रुप) कॉरपोरेशन के अनुसार गुआंगझू, शेनझेन और हांगकांग के बीच शुक्रवार को कोई ट्रेन सेवा नहीं चलेगी।

जियांग्शी के नानचांग रेलवे ब्यूरो ने बताया कि जियांग्शी और फुजियान मार्ग में चलते वाली मुख्यत: 85 ट्रेनों का परिचालन शनिवार (22 अक्टूबर) से रोकने का आदेश दिया गया है। गुआंग्शी में रेलवे अधिकारियों ने भी गुआंगदोंग के प्रमुख शहरों में गुरुवार और शुक्रवार को 20 ट्रेनों को रद्द कर दिया। इसके अलावा शेनझेन हवाईअड्डा ने बीते दो दिनों में 76 विमानों की उड़ान सेवाएं रद्द कर दीं।

हैमा तूफान गुरुवार शाम चार बजे तक शेनझेन से करीब 590 किलोमीटर दक्षिण पूर्व की दूरी पर था। गुआंगदोंग के बाढ़ नियंत्रण अधिकारियों इस तूफान से भारी तबाही और जानमाल का नुकसान होने की आशंका जताई है क्योंकि इसकी शक्ति भी 2013 में आए उसागी तूफान के समान है, जिससे मची तबाही के कारण गुआंगदोंग में कई लोग मारे गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 2:08 pm

सबरंग