ताज़ा खबर
 

पाकिस्तानी अखबारों की असरदार लीड खबर बनी बिहार में BJP की हार

बिहार के महत्वपूर्ण चुनावों में भाजपा की करारी हार के एक दिन बाद पाकिस्तानी अखबारों के संपादकीय और आलेखों में लिखा गया...
Author इस्लामाबाद | November 10, 2015 00:41 am

पाकिस्तान के प्रमुख अखबारों ने बिहार चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में भाजपा की हार की खबरों को सोमवार को पहले पन्ने पर प्रमुखता से जगह दी जहां चुनाव प्रचार के दौरान पाकिस्तान एक बड़े मुद्दे के तौर पर बना रहा और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इस संबंध में बयान भी दिया था कि बिहार में भाजपा हारी तो पाकिस्तान में पटाखे फोड़े जाएंगे।

बिहार के महत्वपूर्ण चुनावों में भाजपा की करारी हार के एक दिन बाद पाकिस्तानी अखबारों के संपादकीय और आलेखों में लिखा गया कि पाकिस्तानी गायकों के खिलाफ प्रदर्शन और बड़े मुस्लिम भारतीय फिल्मी सितारों को पाकिस्तान जाने की सलाह के बीच पाकिस्तान की विधानसभा चुनावों में बहुत दिलचस्पी थी।

द डॉन अखबार ने बिहार स्टील्स मोदीज फायरक्रेकर्स शीर्षक से खबर में लिखा, मोदी की गायों की राजनीति घास चरने चली गयी और बिहार ने गोमांस खाने के मुद्दे पर मुसलमानों के खिलाफ हिंदुओं को लगाने के उनकी पार्टी के अभियान के विरद्ध जबरदस्त जनादेश दिया है।

खबर के अनुसार, 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में 178 सीटों के भारी भरकम स्कोर के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के महागठबंधन ने एक तरफ से सभी चुनावी अनुमानों को धता बता दिया है। द न्यूज इंटरनेशनल ने पहले पन्ने पर मोदीज बीजेपी बाइटस द डस्ट इन बिहार फॉर इटस एक्स्ट्रीमिज्म शीर्षक से खबर दी, भारत में नरेंद्र मोदी के सत्ता में आने के बाद पनप रही कट्टरता और धार्मिक असहिष्णुता को झटका लगा क्योंकि भारतीय जनता पार्टी को बिहार विधानसभा चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा।

अखबार के संपादकीय में लिखा गया कि चुनावों में भाजपा नीत गठबंधन की हार पिछले कुछ महीने में भारत से आई पहली अच्छी खबर है। लेख के मुताबिक, कश्मीर में पाबंदी, सीमापार गोलीबारी, गोमांस पर पाबंदी, धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ हिंसा, पाकिस्तानी गायकों, खिलाड़ियों और राजनयिकों के खिलाफ प्रदर्शन और बड़े मुस्लिम भारतीय फिल्मी सितारों को पाकिस्तान लौटने के लिए कहना मोदी के नए चमकते भारत की कसौटी बनने लगे।

दक्षिणपंथी विचारों वाले अखबार द नेशन ने मोदी सफर्स ब्लो इन की स्टेट इलेक्शन शीर्षक से लिखा कि मोदी ने एक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय चुनाव में हार स्वीकार ली है। यह परिणाम प्रधानमंत्री की जीतने की अपील के लिए बड़ा झटका रहा। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून समेत अन्य अखबारों ने भी इसी तरह की खबरें और लेख प्रकाशित किये हैं।

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने भी भाजपा की हार को तवज्जो दी है। अधिकतर चैनलों ने खबर दी कि अल्पसंख्यकों पर हमलों के जरिये डर का माहौल पैदा करने और राजनीति के साथ धर्म को मिलाने की भाजपा की सियासत की वजह से उसे बिहार में हार का सामना करना पड़ा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Ashish Yadav
    Nov 10, 2015 at 11:13 pm
    असद भाई कृपया ऐसी भाषा का प्रयोग न करें
    Reply
  2. A
    aasdf
    Nov 10, 2015 at 12:24 am
    गैंड फट गयी बी जे पी की.
    Reply
  3. उर्मिला.अशोक.शहा
    Nov 10, 2015 at 8:44 am
    बन्दे मातरम- ऐसी भाषा का प्रयोग एक्सप्रेस ग्रुप में होता है सिर्फ इसीलिए की वो भाजप के खिलाफ किया गया है जा ग ते र हो
    Reply
  4. उर्मिला.अशोक.शहा
    Nov 10, 2015 at 8:42 am
    वन्दे मातरम- अमित शाह का कॉमेंट ी साबित हुआ मोदी भाजप की हार में पाकिस्तान खुशिया मना रहा है पाकिस्तान की मिडिया ने एकसुरमे मोदी की हार से फ्रंट पेज सजाया है जा ग ते र हो
    Reply
सबरंग