December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

ट्रंप के पास ‘गुस्सा-आरोप और उलाहना’ के अलावा कुछ और देने के लिए नहीं: ओबामा

बराक ओबामा ने कहा है कि मतदाता धोखाधड़ी और चुनावों में धांधली के आरोप ‘खतरनाक’ हैं और ये ‘हमारे लोकतंत्र को कमजोर करते’ हैं।

Author वॉशिंगटन | October 21, 2016 15:53 pm
फिलाडेल्फिया में डेमोक्रेटिक नेशनल कन्वेंशन को संबोधित करते बराक ओबामा। (REUTERS/Jim Young/File)

आम चुनाव के नतीजे स्वीकार करने से जुड़ा सवाल पूछे जाने पर कोई वादा करने से इंकार करने वाले रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि मतदाता धोखाधड़ी और चुनावों में धांधली के आरोप ‘खतरनाक’ हैं और ये ‘हमारे लोकतंत्र को कमजोर करते’ हैं। ओबामा ने गुरुवार (20 अक्टूबर) को फ्लोरिडा में एक चुनावी रैली के दौरान कहा, ‘आप बिना किसी साक्ष्य के धांधली या धोखाधड़ी की बात कहते हैं, ट्रंप अमेरिकी इतिहास में किसी बड़ी पार्टी के ऐसे पहले उम्मीदवार बन गए हैं, जो कहता है कि वह चुनाव हारने के बाद भी हार नहीं मानेगा और फिर वह कहता है कि यदि वह जीत जाता है तो नतीजों को स्वीकार कर लेगा। यह कोई मजाक का मुद्दा नहीं है।’

उन्होंने कहा, ‘अधिकतर रिपब्लिकन लोगों ने यह माना है कि इतने बड़े देश में चुनाव की धांधली का कोई तरीका नहीं है। मैं नहीं जानता कि ट्रंप वास्तव में कभी मतदान केंद्र पर गए भी हैं या नहीं? वहां मतदान करवाने के लिए डेमोक्रेट और रिपब्लिकन सदस्य मौजूद रहते हैं।’ ओबामा ने कहा कि ट्रंप के आरोप किसी अन्य झूठ से कहीं ज्यादा है। यह खतरनाक है क्योंकि जब आप हमारे चुनाव की वैधता को लेकर लोगों के दिमाग में शक के बीज बोने की कोशिश करते हैं तो इससे हमारा लोकतंत्र कमजोर होता है।

ओबामा ने कहा, ‘दरअसल (ऐसा करके) आप हमारे शत्रुओं के लिए काम कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘क्योंकि हमारा लोकतंत्र इस बात पर निर्भर करता है कि लोग अपने वोट का महत्व जानते हैं, वे जानते हैं कि जो सत्ता की कुर्सियों पर बैठते हैं, उन्हें लोगों ने ही चुना है।’ राष्ट्रपति ने कहा, ‘यहां तक कि जब आपकी पसंद का उम्मीदवार हार जाता है, या जब आप खुद चुनावी दौड़ में होते हैं और हार जाते हैं तो आपको एक बड़ी तस्वीर देखनी होती है और कहना होता है कि यहां अमेरिका में हम लोकतंत्र में यकीन रखते हैं और हम लोगों की इच्छा को स्वीकार करते हैं।’

ओबामा ने कहा कि यदि कोई धांधली होती तो इसका नुकसान डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को उठाना पड़ता क्योंकि चुनाव के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण ओहायो, नॉर्थ कैरोलीना और नेवाडा जैसे राज्यों में रिपब्लिकन गवर्नर हैं। उन्होंने कहा कि ट्रंप के पास ‘गुस्सा और आरोप और उलाहना’ के अलावा कुछ और देने के लिए नहीं है। ओबामा ने कहा, ‘उन्होंने (ट्रंप ने) अंत में सवाल पूछा- आपके पास खोने के लिए क्या है? इसका जवाब मैं देता हूं। आपके पास खोने के लिए ‘सबकुछ’ है। आप जानते हैं कि विरोध, भेदभाव करने वाली ताकतों, प्रतिघात की राजनीति के बावजूद हमने कितनी अधिक प्रगति की है। यह प्रगति मेरा कार्यकाल खत्म होने के साथ रूकती नहीं है। हम शुरूआत कर रहे हैं।’

ओबामा ने कहा, ‘प्रगति मतदान से जुड़ी है, शिष्टाचार मतदान से जुड़ा है, सहिष्णुता मतदान से जुड़ी है, समानता मतदान से जुड़ी है और हमारा लोकतंत्र भी मतदान से जुड़ा है।’ ट्रंप ने राष्ट्रपति पद की तीसरी एवं अंतिम बहस के दौरान यह वादा करने से इंकार कर दिया था कि वह आठ नवंबर को होने वाले आम चुनाव के नतीजे स्वीकार करेंगे। गुरुवार को उन्होंने कहा था कि यदि वह जीत जाते हैं तो नतीजों को पूरी तरह स्वीकार कर लेंगे लेकिन उन्होंने संशय पैदा करने वाला नतीजा आने पर उसे कानूनी चुनौती देने का अपना अधिकार सुरक्षित रखा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 3:53 pm

सबरंग