December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

ओबामा को उम्मीद, चुनाव प्रचार और देश के शासन में अंतर समझेंगे डोनाल्ड ट्रंप

बराक ओबामा ने कहा है कि सरकार चलाने के लिए अपनी टीम का गठन करने का अधिकार नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का है।

Author वॉशिंगटन | November 15, 2016 14:59 pm
व्हाइट हाउस में हुई डोनाल्ड ट्रंप और बराक ओबामा की मुलाकात। (Photo: REUTERS)

अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि सरकार चलाने के लिए अपनी टीम का गठन करने का अधिकार नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का है। उन्हें अपनी नीतियां तय करने का भी पूरा अधिकार है। उन्होंने इसके साथ ही उम्मीद जतायी कि नए राष्ट्रपति इस बात को समझेंगे कि चुनाव प्रचार करना और देश का शासन चलाना दोनों अलग अलग चीजें हैं। ओबामा ने सोमवार (14 नवंबर) को कहा, ‘लोगों ने अपनी राय दे दी है। डोनाल्ड ट्रंप अगले राष्ट्रपति होंगे, अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति होंगे। सरकार चलाने के लिए अपनी टीम का गठन करना और नीतियां तय करना उनका अधिकार है। और जिन लोगों ने उन्हें वोट नहीं दिया है उन्हें इस बात को मानना होगा कि लोकतंत्र इसी प्रकार काम करता है। यह व्यवस्था इसी प्रकार काम करती है।’ 70 वर्षीय ट्रंप द्वारा की गयी कुछ विवादास्पद नियुक्तियों के बारे में सोमवार को व्हाइट हाउस में संवाददाताओं के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘जब मैंने चुनाव जीता तो बहुत से लोग थे जो मुझे पसंद नहीं करते थे। मेरी बातों से सहमत नहीं थे। मैं समझता हूं कि जब भी इतने कड़वाहट भरे चुनाव के बाद आप दूसरी पार्टी के राष्ट्रपति को चुनते हैं तो लोगों को नयी सच्चाई से तालमेल बिठाने में कुछ समय लगता है।’

ओबामा बोले, ट्रंप के व्यवहार की कुछ चीजें उनके लिए अच्छी नहीं रहेंगी

अमेरिका के अगले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रति ‘विभिन्न मुद्दों’ को लेकर अपनी चिंताएं जाहिर करते हुए निवर्तमान राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति को जल्द ही अहसास होगा कि अगर वह अपने स्वभाव की कुछ चीजें ठीक नहीं करते तो ये उनके लिए अच्छी नहीं रहेंगी। बराक ओबामा (55) ने कहा, ‘मुझे लगता है कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति यदि अपने स्वभाव की कुछ बातों को पहचानकर ठीक नहीं करते हैं, तो वे उनके लिए अच्छी साबित नहीं होंगी।’ओबामा ने कहा, ‘आप उम्मीदवार होने के दौरान कुछ गलत या विवादित बात कहते हैं तो इसका असर उस समय की तुलना में कम पड़ता है, जब आप अमेरिका के राष्ट्रपति होते हैं। दुनिया का हर व्यक्ति गौर कर रहा है। बाजार हिल जाते हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों के लिए सटीकता का एक स्तर जरूरी होता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आप गलतियां नहीं कर रहे। मुझे लगता है कि वह इस बात को समझते हैं कि यह (राष्ट्रपति बन जाना) अलग है और अमेरिकी जनता भी ऐसा ही मानती है।’

चुनाव प्रचार के दौरान, यहां तक कि पिछले सोमवार को भी ओबामा ने कहा था कि 70 वर्षीय ट्रंप स्वभावगत तौर पर देश का राष्ट्रपति बनने के अयोग्य हैं। ओबामा ने कहा, ‘क्या मैं चिंतित हूं? निश्चित तौर पर। मुझे चिंताएं हैं। मैं और वह बहुत से मुद्दों पर अलग राय रखते हैं। लेकिन संघीय सरकार और हमारा लोकतंत्र कोई छोटी सी नौका नहीं है, यह एक बड़ा जहाज है। जब मैंने पदभार संभाला था, तब मैंने भी यही पाया था। हमें ट्रंप से ज्यादा बहुमत मिला था। हमें अहम नीतिगत बदलाव करने के लिए बेहद मेहनत करनी पड़ी थी- यहां तक कि अपने शुरुआती दो साल में।’

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति यह उम्मीद करेंगे कि उन्हें इस आधार पर आंका जाए कि हम एक तय स्थिति में सुधार लाते हैं या नहीं या फिर चीजें बिगड़ जाती हैं। यदि चीजें खराब होती है। तो अमेरिकी जनता जल्दी ही इसका पता लगा लेगी। यदि चीजें बेहतर होती हैं तो उन्हें और शक्ति मिले। उस स्थिति में, उन्हें मुबारकबाद देने वाला पहला व्यक्ति मैं होऊंग।’ ओबामा ने बीते गुरूवार को ओवल कार्यालय में ट्रंप से मुलाकात की थी। ओबामा ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि वह विचारधारा वाले व्यक्ति हैं। मुझे लगता है कि अंतत: वह व्यवहारिक हैं। यह उनके लिए मददगार साबित हो सकता है बशर्ते उनके आसपास अच्छे लोग हों और उन्हें स्पष्ट तौर पर दिशा का पता हो।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 15, 2016 2:59 pm

सबरंग