ताज़ा खबर
 

अमेरिका-पाकिस्तान के बीच पेचीदा संबंधों के कारण ओबामा पाकिस्तान दौरे पर नहीं गए: व्हाइट हाउस

अर्नेस्ट ने कहा कि पाकिस्तान के साथ अमेरिका के संबंध काफी जटिल हैं खासकर परस्पर जुड़े सुरक्षा हितों के मद्देनजर।
Author वॉशिंगटन | December 2, 2016 14:14 pm
वॉशिंगटन में द व्हाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा। (REUTERS/Jonathan Ernst/14 Nov, 2016/File)

निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने कार्यकाल की शुरुआत में पाकिस्तान जाने की इच्छा जताई थी लेकिन उस देश के साथ ‘पेचीदा संबंधों’ के कारण वह ऐसा नहीं कर सके। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने यहां नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘उनके राष्ट्रपति कार्यकाल के एक चरण में, मुझे याद है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पाकिस्तान यात्रा पर जाने की इच्छा जताई थी। लेकिन विभिन्न कारणों से, जिनमें से कुछ की वजह बीते आठ वर्षों में किसी समय दोनों देशों के बीच जटिल संबंध थे, राष्ट्रपति बराक ओबामा अपनी यह इच्छा पूरी नहीं कर पाए।’ जोश पाकिस्तान के बयान पर आधारित सवाल का जवाब दे रहे थे। पाकिस्तान ने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हवाले से दावा किया था कि उन्होंने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से कहा है कि वह देश के दौरे पर आना चाहेंगे। उन्होंने कहा, ‘एक बात हमें पता होनी चाहिए कि जब अमेरिका के राष्ट्रपति कहीं के दौरे पर जाते हैं तो इसका देश की जनता तक बड़ा महत्वपूर्ण संदेश जाता है। यह उस देश के लिए भी सही है जो हमारा सबसे करीबी सहयोगी है और साथ-साथ पाकिस्तान जैसे उस देश पर भी लागू होता है जिसके साथ हमारे संबंध कहीं ज्यादा उलझे हुए हैं।’

अर्नेस्ट ने कहा, ‘अंतत: जब राष्ट्रपति ट्रंप विदेश यात्राओं की योजना बनाएंगे तो उनके पास विचार करने के लिए कई स्थान होंगे। निश्चित ही पाकिस्तान भी उनमें से एक होगा।’ व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट से ट्रंप और शरीफ के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत के बारे में सवाल पूछा गया था। उनसे पाकिस्तान के उस दावे के बारे में भी पूछा गया जिसमें कहा गया था कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री शरीफ की भरपूर तारीफ की है और देश के समक्ष लंबित समस्याओं का समाधान खोजने के लिए कोई भी भूमिका निभाने का प्रस्ताव दिया है। इस पर उन्होंने कहा, ‘जिस फोन कॉल की आप बात कर रहे हैं मैंने उसका ब्यौरा देखा है। मैं उस फोन कॉल की सत्यता और लहजे के बारे में कुछ नहीं कह सकता।’ टेलीफोन पर हुई बातचीत के पाकिस्तान द्वारा जारी किए गए ब्यौरों के आधार पर ट्रंप के आलोचक उनकी विदेश नीति से जुड़े खराब फैसले को लेकर उनकी आलोचना कर रहे हैं। अर्नेस्ट ने कहा कि पाकिस्तान के साथ अमेरिका के संबंध काफी जटिल हैं खासकर परस्पर जुड़े सुरक्षा हितों के मद्देनजर। उन्होंने कहा, ‘बीते आठ वर्षों में दोनों देशों के बीच संबंधों को बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता है खासकर राष्ट्रपति ओबामा द्वारा पाकिस्तानी धरती पर ओसामा बिन लादने के सफाए का आदेश दिए जाने के बाद से।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग