December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

बराक ओबामा कांग्रेस के विरोध के कारण बंद नहीं कर सके गुआंतानामो बे जेल

ओबामा ने कहा, ‘वहां बहुत ही खतरनाक लोगों का समूह है जिनके बारे में हमारे पास अमेरिका के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के दोषी होने का पुख्ता सबूत है।

Author वॉशिंगटन | November 15, 2016 15:12 pm
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा (फोटो-रायटर्स)

निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को इस बात का पछतावा है कि अपने आठ वर्ष के कार्यकाल के दौरान वह गुआंतानामो बे आतंकवादी हिरासत केंद्र को कांग्रेस द्वारा रुकावटें पैदा करने के कारण बंद नहीं कर सके। 55 वर्षीय ओबामा ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा ‘गुआंतानामो के बारे में, यह सच है कि कांग्रेस द्वारा हमारे सामने रुकावटें पैदा करने के कारण मैं उसे बंद नहीं कर पाया।’ उन्होंने कहा ‘यह भी सच है कि हमने वहां संख्या बहुत ही कम कर दी है। वहां मुश्किल से 100 से भी कम लोग हैं। अगले दो माह में शायद कुछ अतिरिक्त स्थानांतरण भी किए जाएं।’

ओबामा ने कहा, ‘वहां बहुत ही खतरनाक लोगों का समूह है जिनके बारे में हमारे पास अमेरिका के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के दोषी होने का पुख्ता सबूत है। लेकिन सबूतों की प्रकृति के कारण, कुछ मामलों में सबूतों से समझौता हो रहा है तो उन्हें सामान्य अनुच्छेद तीन के तहत अदालत में पेश करना बहुत मुश्किल है।’ राष्ट्रपति ने कहा कि समूह हमेशा से अमेरिका के लिए बड़ी चुनौती रहा है। राष्ट्रपति ने कहा ‘मेरी दृढ़ राय और प्राथमिकता रही है कि हमारे लिए गुआंतानामो बे हिरासत केंद्र को बंद कर, उन्हें स्पष्ट रूप से अमेरिका के अधिकार क्षेत्र में आने वाले अन्य हिरासत केंद्र में भेजा जाए। हम इसे किफायती और सुरक्षित रूप से करते।’

ओबामा ने कहा ‘कांग्रेस ने मुझसे असहमति जताई और मैंने वह किया जो निर्वाचित राष्ट्रपति करता है। बहरहाल, हम ऐसा करने के लिए लगातार विकल्प तलाशते रहेंगे।’उन्होंने कहा कि इस बात पर उन्हें बेहद गर्व है कि वह बिना किसी बड़े प्रकरण के, प्रशासन छोड़ रहे हैं। राष्ट्रपति ने कहा ‘हमसे गलतियां हुईं, जिन्हें दुरुस्त किया गया लेकिन मैं इस प्रशासन के मानकों को बनाए रखूंगा और हमारा रिकॉर्ड नियमों तथा मानकों के पालन का रहा, अमेरिकी जनता पर भरोसा रखते हुए इस प्रशासन से स्वयं को अलग करूंगा।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 15, 2016 3:12 pm

सबरंग