March 23, 2017

ताज़ा खबर

 

भारतीय फिल्‍मों पर बैन लगा तो बंद हो जाएगी पाकिस्‍तान की कमाई, बढ़ेगी पायरेसी: एक्‍सपर्ट

अब हालत यह है कि गिनी चुनी नई फिल्मों के साथ पुरानी फिल्मों को दोबारा दिखाया जा रहा है।

Author October 5, 2016 19:47 pm
पाकिस्तान भारतीय फिल्मों के लिए तीसरा सबसे बड़ा बाजार है।

भारत के साथ बढ़ते तनाव के बीच पाकिस्तान में सिनेमाघर मालिकों के भारतीय फिल्मों पर प्रतिबंध लगाने से पाइरेसी को बढ़ावा मिलेगा और इससे स्थानीय सिनेमा बुरी तरह से प्रभावित होंगे, जो बॉलीवुड फिल्मेंं दिखा कर कमाई करते हैं। सिनेमा उद्योग के अंदर के लोगों ने यह बात कही है। पिछले हफ्ते पाकिस्तानी सिनेमाघर मालिकों ने भारतीय फिल्मों के दिखाए जाने पर अनिश्चतकालीन प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया था। उरी आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने के मद्देनजर इससे पहले इंडियन फिल्म एसोसिएशन ने पाकिस्तानी कलाकारों पर प्रतिबंध लगाया था। डॉन अखबार की खबर के मुताबिक स्थानीय सिनेमाघर मालिक पाकिस्तान के साथ एकजुटता के साथ खड़े हैं पर उनका कहना है कि ऐसे प्रतिबंध दोनों देशों के लिए ठीक नहीं है। सुपर सिनेमा, लाहौर के महाप्रबंधक खुरम गुलतसाब ने कहा कि 50 से 60 फीसदी राजस्व अकेले बॉलीवुड फिल्मों से ही आता है, इसलिए भारतीय फिल्में दिखाने पर रोक का फैसला स्थानीय हितधारकों से एक तात्कालिक समझौता था। उन्होंने कहा, ‘‘यह वक्त भारत को यह दिखाने का है कि इसकी कारोबारी संस्थाएं हमारे कलाकारों को प्रतिबंधित नहीं कर सकते। उन्हें यह कतई नहीं भूलना चाहिए कि पाकिस्तान भारतीय फिल्मों के लिए तीसरा सबसे बड़ा बाजार है।’’

सर्जिकल स्‍ट्राइक पर इंडियन एक्‍सप्रेस का बड़ा खुलासा, देखें वीडियो: 

पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक प्राधिकरण (पेमरा) ने अपने अध्यक्ष अबसार आलम को यह अधिकार दिया है कि वह ऐसी किसी भी कंपनी का लाइसेंस बिना किसी पूर्व नोटिस के निलंबित अथवा रद्द कर सकते हैं जो गैरकानूनी ढंग से भारतीय कार्यक्रमों का प्रसारण कर रहे हों। पेमरा की कल हुई एक बैठक में गैरकानूनी ढंग से विदेशी कार्यक्रम दिखाए जाने के मुद्दे और इस तरह के कार्यक्रमों का प्रसारण रोके जाने की 15 अक्तूबर तक की समयसीमा पर बातचीत की गई। पेमरा के नियमों के अनुसार स्थानीय चैनल सिर्फ पांच फीसदी विदेशी कार्यक्रम ही दिखा सकते हैं, हालांकि अधिकतर पाकिस्तानी चैनल ज्यादातर विदेशी कार्यक्रमों पर निर्भर करते हैं।

READ ALSO: नालंदा नाबालिग रेप पीड़िता ने CM को भेजा संदेश, कहा- जमानत कैसे मिल गई उसे, अब वो तो कुछ भी कर सकता है

अब हालत यह है कि गिनी चुनी नई फिल्मों के साथ पुरानी फिल्मों को दोबारा दिखाया जा रहा है। गुलतसाब ने कहा कि पाकिस्तान के सिनेमाघर सिर्फ पाकिस्तानी फिल्मों के दम पर तो अपना गुजारा नहीं कर सकते।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 5, 2016 7:46 pm

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग