ताज़ा खबर
 

‘इस्लाम विरोधी’ ब्लॉगर अविजित रॉय की कठमुल्लों ने ले ली जान

आमरा शोकाहोतो, किंतु आमरा अपराजितो (हम शोकित हैं, लेकिन अपराजित हैं)। ये चंद शब्द शुक्रवार शाम को मुक्त-मोना.कॉम के होमपेज पर स्याह पृष्ठभूमि के सामने लिखे गए थे। इन शब्दों में जैसे सारी बात कह दी गई थी। इस मशहूर ब्लॉक के संस्थापक-लेखक अविजित रॉय की गुरुवार रात ढाका की सड़क पर हत्या कर दी […]
Author February 28, 2015 12:30 pm
‘इस्लाम विरोधी’ ब्लॉगर-लेखक अविजित रॉय और पत्नी रफीदा।

आमरा शोकाहोतो, किंतु आमरा अपराजितो (हम शोकित हैं, लेकिन अपराजित हैं)। ये चंद शब्द शुक्रवार शाम को मुक्त-मोना.कॉम के होमपेज पर स्याह पृष्ठभूमि के सामने लिखे गए थे। इन शब्दों में जैसे सारी बात कह दी गई थी।

इस मशहूर ब्लॉक के संस्थापक-लेखक अविजित रॉय की गुरुवार रात ढाका की सड़क पर हत्या कर दी गई। रॉय की धर्मनिरपेक्ष छवि कट्टरपंथ विरोधी लेखकीय मुहिम से चिढ़े इस्लामी आतंकवादियों ने उनकी हत्या की। हमलावरों ने उनकी पत्नी रफीदा अहमद बान्ना की हत्या की भी कोशिश की। वे अस्पताल में दाखिल हैं।

बांग्लादेशी मूल के अमेरिकी नागरिक रॉय अपनी दो किताबों के लोकार्पण के सिलसिले में इन दिनों ढाका में थे। उनके मित्रों ने बताया कि ढाका में पुस्तक मेले में भाग लेने के बाद शुक्रवार को वे कोलकाता जाने वाले थे। लेकिन कट्टरपंथियों ने उनके ढाका छोड़ने से पहले ही अपना खूनी मनसूबा पूरा कर लिया। ढाका में पुलिस सूत्रों ने जानकारी दी कि अज्ञात हमलावरों ने बांग्लादेशी मूल के अमेरिकी ब्लॉगर की हत्या धारदार हथियार से की। उनको बचाने में उनकी पत्नी रफीदा को गंभीर चोटें आईं। शुक्रवार को इस हत्याकांड की तस्वीरें जारी की गईं जिनमें दिख रहा है कि रॉय का खून से लथपथ शव सड़क पर पड़ा है। सामने लोग खड़े हैं और उनकी जख्मी पत्नी रफीदा मदद के लिए पुकार रही हैं।

सूत्रों के अनुसार, धार्मिक कट्टरपंथ के खिलाफ लिखने को लेकर कुछ दिन पहले उन्हें धमकियां मिली थीं। उन्हें देश न आने को भी कहा गया था। इसके बावजूद अविजित रॉय (44) ढाका पुस्तक मेले में शमिल होने के लिए 16 फरवरी को बांग्लादेश आए थे जहां उनकी तीन पुस्तकें इस साल प्रकाशित हुई। उन्हें चार मार्च को अमेरिका रवाना होना था। उनके छोटे भाई अनुजीत रॉय ने यह जानकारी दी।

 avijit roy, bangladeshi blogger, ansar bangla 7, bangladesh blogger, blogger avijit roy, bangladesh us blogger killed, avijit roy, bangladesh us blogger, blogger killed, us blogger, bangladesh blogger hacked, blogger hacked, religious fundamentalism, blogger attacked, us news, world news, bangladesh news, international news अविजित रॉय की धर्मनिरपेक्ष छवि कट्टरपंथ विरोधी लेखकीय मुहिम से चिढ़े इस्लामी आतंकवादियों ने उनकी हत्या की। हमलावरों ने उनकी पत्नी रफीदा अहमद बान्ना की हत्या की भी कोशिश की। वे अस्पताल में दाखिल हैं। (फोटो: एपी)

 

अविजित बांग्लादेशी थे, लेकिन बाद में उन्हेंअमेरिकी नागरिकता मिल गई। ‘ट्रिब्यून’ की खबर के मुताबिक, रॉय को अपनी प्रगतिशील पुस्तक और ब्लॉग पोस्ट के लिए हाल ही में चरमपंथियों से धमकी मिली थी।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी सिराजुल इस्लाम ने बताया कि हम अभी भी अपराधियों की पहचान के बारे में अस्पष्ट हैं। लेकिन पुलिस को शक है कि प्रो हुमायूं आजाद पर हमला करने वालों का ही इसमें हाथ है। रॉय के करीबियों ने बताया कि पति-पत्नी पुस्तक मेले से लौट रहे थे तभी तीन लोगों ने उन पर हमला किया।

इस्लामी कट्टरपंथियों कीओर से चलाए जा रहे एक ट्विटर अकाउंट अंसार बांग्ला-7 ने शुक्रवार को ट्वीट किया किया कि ‘इस्लाम विरोधी ब्लॉगर’ की हत्या उनके इस्लाम के खिलाफ जुर्म के कारण किया गया।

 avijit roy, bangladeshi blogger, ansar bangla 7, bangladesh blogger, blogger avijit roy, bangladesh us blogger killed, avijit roy, bangladesh us blogger, blogger killed, us blogger, bangladesh blogger hacked, blogger hacked, religious fundamentalism, blogger attacked, us news, world news, bangladesh news, international news वरिष्ठ पुलिस अधिकारी सिराजुल इस्लाम ने बताया कि हम अभी भी अपराधियों की पहचान के बारे में अस्पष्ट हैं। लेकिन पुलिस को शक है कि प्रो हुमायूं आजाद पर हमला करने वालों का ही इसमें हाथ है। (फोटो: एपी)

 

रॉय अनीश्वरवादी और कट्टरपंथ विरोधी, खासकर चरमपंथ विरोधी विचारों के लिए जाने जाते थे। अपने ब्लॉग में उन्होंने काफी तल्ख टिप्पणियां की थीं। इसी कारण बांग्लादेशी कठमुल्ले उन्हें निशाना बनाने की फिराक में थे। उन्होंने दस किताबें लिखी जिनमें ‘बिश्वाशेर वाइरस’ नामक किताब भी है जिसमें धार्मिक उन्माद की कड़ी निंदा की गई।
व्यवसाय से इंजीनियर रॉय की हत्या से बांग्लादेश के लेखकों और धर्मनिपेक्षता समर्थकों में जबरदस्त रोष है। शुक्रवार को ढाका विश्वविद्यालय के करीब लेखकों, ब्लॉगरों और कार्यकताओं ने शानबाग में धरना दिया। उन्होंने हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग की।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.