ताज़ा खबर
 

बच्ची का दो बार हुआ ‘जन्म’: गर्भ से निकालकर किया ऑपरेशन, फिर मां की कोख में डाला

अमेरिका के टेक्सास में चौंका देने वाला सामना आया है। यहां एक बच्ची का जन्म दो बार हुआ। दरअसल बच्ची को ट्यूमर था, जिसके बाद डॉक्टरों ने ऑपरेशन करने का फैसला किया।
Author टेक्सास। | October 25, 2016 11:57 am
अमेरिका के टेक्सास में एक बच्ची का जन्म दो बार हुआ। (REPRESENTATIVE IMAGE)

अमेरिका के टेक्सास में चौंका देने वाला सामना आया है। यहां एक बच्ची का जन्म दो बार हुआ। दरअसल बच्ची को ट्यूमर था, जिसके बाद डॉक्टरों ने ऑपरेशन करने का फैसला किया। डॉक्टरों ने बच्ची को मां के गर्भ से निकाला और उसका ऑपरेशन करके वापस उसे मां की कोख में रख दिया गया। मारग्रेट बीमर नाम की एक महिला गर्भवती थी और अल्ट्रासाउंड में पता चला कि उनके गर्भ में पल रही बच्ची की रीढ़ की हड्डी में एक ट्यूमर है। डॉक्टरों के आखिरी उम्मीद मेडिकल प्रक्रिया थी, डॉक्टरों ने गर्भस्थ शिशु को बाहर निकालने, उसका ऑपरेशन करने और फिर उसे गर्भ में डालने का फैसला किया गया।

डॉक्टरों ने बताया कि बच्ची को टेराटोमा था, यह नवजात बच्चों में सबसे आम ट्यूमर होता है। लेकिन इस बच्ची के केस में हमे जो देखने को मिला वह रेयर ही देखने को मिलता है। ट्यूमर को डॉक्टर जन्म के बाद निकालते हैं लेकिन बच्ची का ट्यूमर भ्रूण को प्रभावित कर रहा था इस लिए यह चुनौती थी। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर किसी कारणवश ट्यूमर जीत जाता तो बच्ची का हार्ट फेल हो सकता था और ऐसी स्थिति में उसको बचाया जाना मुश्किल था। ट्यूमर के बढ़ने के कारण ऑपरेशन के अलावा और कोई चारा नहीं बचा था। इसके अलावा महिला का अबॉर्शन किया जा सकता था लेकिन मारग्रेट के लिए यह फैसला करना मुश्किल था।

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

READ ALSO: प्रेग्नेंट कुतिया को मारा, फिर लाश के साथ किया रेप

बच्ची की मां मारग्रेट ने सीएनएन से कहा कि लिनली (बच्ची) के पास ज्यादा मौका नहीं था। ट्यूमर के कारण उसका दिल काम करना बंद कर देता। ऐसे में हमारे पास उसके बच्ची का ऑपरेशन करके ट्यूमर को निकालने के अलावा और कोई रास्ता नहीं था। जिससे उसे नई जिंदगी दी जा सके। मेरी बच्ची को नई जिंदगी देने के लिए यह फैसला करना हमारे लिए आसान था।

READ ALSO: ‘व्हाइट हाउस’ में संबंध बनाते हुए कैद हुआ कपल, VIDEO वायरल

डॉक्टरों ने बताया कि इस ऑपरेशन में 5 घंटे लगे। लेकिन भ्रूण वाले हिस्से का ऑपरेशन हमने बहुत जल्दी किया। इसमें 20 मिनट लगे। ज्यादातर समय गर्भाशय काटने में लगे। उन्होंने बताया कि सर्जरी के दौरान लिनली का दिल धीरे काम करने लगा लेकिन विशेषज्ञों ने उसे जिंदा रखा। इस बीच बच्ची की सांसें थमने लगीं तो उसे कृत्रिम सांस दी गई। वापस उसे गर्भ में डाल दिया गया। डॉक्टर ने कहा कि ये चमत्कार है कि यूट्रस को इस तरह से खोला जाए, फिर उसे बंद कर दिया जाए और सभी चीजे सहीं से काम करे। सही समय पर अब उसका जन्म हुआ है और वह बच्ची स्वस्थ है। डॉक्टरों ने बच्ची के जन्म के बाद दोबारा ऑपरेशन किया और ट्यूमर के बाकी बचे हिस्सों को निकाला। पहली बार पूरे ट्यूमर को नहीं निकाला जा सका था।

READ ALSO: 12 साल के लड़के ने की बहन से सगाई, पिता बोले- बचपन से प्‍यार करता था, डर था कि कहीं…

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग