ताज़ा खबर
 

इस्तीफा देने की मांगों को खारिज किया ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री टर्नबुल ने

बहुमत की सरकार बनाने के लिए प्रमुख पार्टियों को 76 सीटों की जरूरत होती है।
Author मेलबर्न | July 5, 2016 17:05 pm
ऑस्ट्रेलिया के वर्तमान प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल (AP Photo/Rob Griffith, File)

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मेल्कम टर्नबुल ने सप्ताहांत को हुए चुनाव के बाद उठ इस्तीफा देने की मांगों को मंगलवार (5 जुलाई) को खारिज कर दिया। चुनाव में किसी को भी बहुमत नहीं मिला है और त्रिशंकु संसद की आशंका बन रही है। डाक से प्राप्त और अनुपस्थित लोगों के मतों को मिलाकर 15 लाख मतों की गणना मंगलवार (5 जुलाई) सुबह शुरू हुई थी। ऑस्ट्रेलियाई ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन के मुताबिक शुरुआती गणना में कोई निष्कर्ष नहीं निकला। इसमें टर्नबुल के कंजर्वेटिव गठबंधन को 68 सीटें मिली हैं, विपक्षी लेबर पार्टी को 67 जबकि 10 सीटों पर कोई नतीजा नहीं निकला है। बहुमत की सरकार बनाने के लिए प्रमुख पार्टियों को 76 सीटों की जरूरत होती है।

मतगणना कई दिनों तक जारी रह सकती है। तब तक ऑस्ट्रेलिया में राजनैतिक शून्य की स्थिति बनी रहेगी। लेबर पार्टी के नेता बिल शॉर्टन ने सोमवार (4 जुलाई) को टर्नबुल से इस्तीफा देने की मांग की थी और कहा था कि ‘मिस्टर टर्नबुल को यह पता ही नहीं है कि वे क्या कर रहे हैं। मुझे साफतौर पर लगता है कि उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।’ लेकिन टर्नबुल ने पत्रकारों के समक्ष उनकी मांग को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि ‘वह तो यह कहेंगे ही। इससे बेहतर कुछ कहने की वह सोच भी नहीं सकते हैं।’ शनिवार (2 जुलाई) को हुए चुनाव में उन्होंने गठबंधन के खिलाफ बड़े पैमाने पर हुए मतों में परिर्वतन और मतदाताओं का प्रमुख राजनैतिक पार्टियों से मोहभंग होने की बात स्वीकारी। उन्होंने कहा, ‘‘इस चुनाव से सीख लेनी चाहिए।’

अटॉर्नी जनरल जॉर्ज ब्रांडिस ने कहा कि गठबंधन को अभी भी ‘काफी हद तक भरोसा है’ कि निचले सदन में उसे ‘कामकाजी बहुमत’ मिल जाएगा। चुनाव के बाद क्रॉसबेंच और निर्दलीय सांसद किंगमेकर के तौर पर उभर रहे हैं और टर्नबुल तथा शॉर्टन ने रविवार (3 जुलाई) को उनके साथ बातचीत भी शुरू कर दी है। नए संसदीय किंगमेकर की तरह खुद को पेश कर रहे सीनेटर निक जायनोफोन ने संकेत दिए हैं कि वे टर्नबुल या शॉर्टन के साथ मिलकर अल्पसंख्यक सरकार बनाने को तैयार हैं। ऑस्ट्रेलिया में पिछले छह साल में पांच प्रधानमंत्री बन चुके हैं। टर्नबुल पार्टी रूम वोट के जरिए टोनी एबॉट को बेदखल करके सितंबर में प्रधानमंत्री बने थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग