ताज़ा खबर
 

ऐतिहासिक बहुमत करेगा सू की की राह आसान

आंग सान सू ची की पार्टी ने सप्ताहांत पर हुए चुनावों में संसदीय बहुमत हासिल कर लिया है। शासन की बागडोर सेना के हाथ से निकलने पर म्यांमा में हो रहे इस ऐतिहासिक..
Author यंगून | November 14, 2015 01:05 am
म्यांमा की आंग सान सू ची। (फाइल फोटो)

आंग सान सू ची की पार्टी ने सप्ताहांत पर हुए चुनावों में संसदीय बहुमत हासिल कर लिया है। शासन की बागडोर सेना के हाथ से निकलने पर म्यांमा में हो रहे इस ऐतिहासिक बदलाव के तहत विजेता पार्टी को राष्ट्रपति निर्वाचित करने का और सरकार बनाने का अवसर मिल गया है। वर्ष 1990 के बाद से सू ची की नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी पार्टी का यह पहला चुनाव है। इस चुनाव में इसे इतनी बड़ी संख्या में वोट पड़े हैं कि 80 प्रतिशत से ज्यादा सीटें एनएलडी के खाते में आ गई हैं।

केंद्रीय चुनाव आयोग की ओर से धीरे-धीरे करके जारी किए गए चुनाव परिणामों के बाद आज एनएलडी शासन के लिए जरूरी दो-तिहाई बहुमत को हासिल करने में सफल रही। यह 348 संसदीय सीटें जीत चुकी है और कई सीटों के नतीजे घोषित होने अभी बाकी हैं।

पांच दशक तक सेना के नियंत्रण में रहे इस देश के राजनीतिक परिदृश्य में भारी बदलाव के लिए सरकार अब सू ची की पार्टी को आमंत्रित कर रही है। इस बहुमत के जरिए सू ची की पार्टी को निचले और ऊपरी सदनों में नियंत्रण मिल गया है। इसके चलते यह पार्टी राष्ट्रपति का निर्वाचन और सरकार का गठन कर सकती है।

भारी बहुमत सू ची (70) को भविष्य में सैन्य प्रतिष्ठान के साथ होने वाली राजनीतिक रस्साकशी में फायदे की स्थिति में रखेगा। इन चुनावों में सैन्य प्रतिष्ठान संयत रहे हैं लेकिन फिर भी व्यापक शक्तियां इसके ही हाथ में हैं।

सू ची राष्ट्रपति पद पर आसीन नहीं हो सकतीं क्योंकि सेना द्वारा रचित संविधान में वर्णित प्रावधान इसमें बाधा पैदा करता है। इसके साथ ही यह संविधान सेना के लिए 25 फीसदी सीटें भी सुनिश्चित करता है। सू ची पहले ही ‘‘राष्ट्रपति से ऊपर’’ रहते हुए शासन करने का संकल्प जता चुकी हैं। उन्होंने कहा था कि वह शीर्ष कार्यालय में एक प्रतिनिधि नियुक्त करके संविधान के इस प्रतिबंध से निपट लेंगी।

म्यांमा के स्वतंत्र विश्लेषक रिचर्ड होर्से ने एएफपी को बताया कि एनएलडी ‘‘जो भी नियम पारित करना चाहेगी, वह कर सकेगी। उन्हें गठबंधन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी और उन्हें समझौते करने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।’’

उन्होंने कहा कि लेकिन सत्ता हस्तांतरण के दौरान एनएलडी को ‘‘हर एक को एकसाथ’’ रखने के लिए सजग रहना होगा। चुनाव में मिली भारी जीत से उत्साहित सू ची ने राष्ट्रपति थीन सीन और सैन्य प्रमुख मिन आंग लियांग के साथ ‘‘राष्ट्रीय मैत्री वार्ताओं’’ का आह्वान किया है।

दोनों व्यक्तियों- राष्ट्रपति थीन सीन और सैन्य प्रमुख मिन आंग लियांग- ने एनएलडी को उसके चुनावी प्रदर्शन पर बधाई दी है और चुनाव के नतीजों को स्वीकार करने के साथ-साथ शांतिपूर्ण सत्ता हस्तांतरण में मदद का भी संकल्प जताया है। थीन सीन की सत्ताधारी यूनियन सोलिडेरिटी एंड डेवलपमेंट पार्टी इन चुनावों में आसानी से पराजित हो गई। यह पार्टी पूर्व सैन्य कार्यकर्ताओं से बनी है।

हालांकि वर्ष 2011 में सरकार का नेतृत्व करने के लिए अपनी वर्दी छोड कर असैन्य वेश में आ जाने वाले पूर्व जनरल थीन सीन को सुधारों की शुरूआत के लिए सराहा जाता है। इन सुधारों का असर रविवार को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुए चुनाव में देखने को मिला।

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की-मून ने सू ची को उनकी चुनावी जीत पर बधाई दी लेकिन उन्होंने ‘‘सुधार प्रक्रिया में नेतृत्व’’ के लिए थीन सीन के ‘‘साहस एवं सोच’’ की सराहना भी की।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने इन चुनावों का स्वागत किया है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने बधाई देने के लिए सू ची और राष्ट्रपति दोनों से ही बात की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग