ताज़ा खबर
 

एंटोनियो गुटेरेस का संरा प्रमुख बनना लगभग तय, संरा सुरक्षा परिषद ने किया समर्थन

गुटेरेस की नाम पर अंतिम मुहर लगाने के लिए 193 सदस्यीय महासभा इस पर विचार करेगी।
Author संयुक्त राष्ट्र | October 7, 2016 14:16 pm
पुर्तगाल के पूर्व प्रधानमंत्री और संरा के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस। (REUTERS/Denis Balibouse/File photo)

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने गुरुवार (6 अक्टूबर) को महासचिव पद के लिए पुर्तगाल के पूर्व प्रधानमंत्री एंटोनियो गुटेरेस का सर्वसम्मति से समर्थन किया और पांच साल के उनके कार्यकाल की सिफारिश महासभा से की। 67 वर्षीय गुटेरेस को चुनने के लिए 15 सदस्यीय परिषद ने औपचारिक मतदान किया। इससे एक दिन पहले परिषद ने कहा था कि संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी मामलों के पूर्व उच्चायुक्त गुटेरेस 72 वर्षीय बान की मून की जगह लेने के लिए नौंवे महासचिव के तौर पर ‘सबसे पंसदीदा’ बनकर उभरे हैं। गुटेरेस की नाम पर अंतिम मुहर लगाने के लिए 193 सदस्यीय महासभा इस पर विचार करेगी। वैसे इतिहास गवाह है कि आमतौर पर महासभा के सदस्य उसी उम्मीदवार के नाम पर मुहर लगाते हैं जिस पर परिषद फैसला करती है। सुरक्षा परिषद ने महासभा को गुटेरेस को एक जनवरी 2017 से पांच साल का कार्यकाल देने की सिफारिश की है। यह प्रक्रिया परंपरानुसार बंद दरवाजे के भीतर की गई। इस प्रस्ताव को पास करने के लिए पक्ष में नौ मतों की जरूरत होती है। इस पर वीटो का इस्तेमाल भी नहीं होना चाहिए।

संयुक्त राष्ट्र में रूस के दूत वितली चुरकिन अक्तूबर माह के लिए संरा सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष हैं। उन्होंने यहां संवाददाताओं को बताया, ‘संरा के महासचिव की नियुक्ति की अनुशंसा करने के मसले पर सुरक्षा परिषद ने विचार किया है। सुरक्षा परिषद महासभा को सिफारिश करती है कि एंटोनियो गुटेरेस को संरा का महासचिव बनाया जाना चाहिए और उन्हें एक जनवरी 2017 से 31 दिसंबर 2022 तक का कार्यकाल दिया जाना चाहिए।’ चुरकीन ने कहा कि गुटेरेस में संरा का नेतृत्व करने लायक ‘कई गुण हैं’। उन्होंने कहा, ‘सुरक्षा परिषद के अन्य सदस्यों और संरा के कई सदस्यों के साथ बातचीत में मैंने महसूस किया है कि संरा में गुटेरेस की काफी अच्छी साख है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि वे दस साल तक संरा में शरणार्थी संबंधी मसलों के उच्चायुक्त रह चुके हैं और उन्होंने दुनिया में हो रहे ‘सबसे गंभीर संर्घर्षों’ को करीब से देखा है।’

संरा के शीर्ष पद के लिए सुरक्षा परिषद द्वारा किसी महिला को नहीं चुनने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस साल इस पद के आवेदकों में से 50 फीसदी महिलाएं थीं और अगर कोई महिला महासचिव बनती तो परिषद को खुशी होती। उन्होंने कहा, ‘लेकिन इसके साथ ही हमें उस तथ्य का सम्मान भी करना चाहिए कि इस पद के लिए अन्य मजबूत दावेदार भी थे।’ गुटेरेस के नाम पर अंतिम मुहर लगाने पर महासभा अगले हफ्ते विचार करेगी। भारत ने अगले महासचिव के तौर पर गुटेरेस को बधाई दी। संरा में भारत के दूत सैयद अकबरूद्दीन ने ट्वीट किया, ‘बधाई और शुभेच्छा। एंटोनियो मेनुअल दे ओलिवेरा गुटेरेस का अगले महासचिव के तौर पर भारत स्वागत करता है।’ अकबरुद्दीन के ट्वीट के साथ एक तस्वीर भी थी जिसमें गुटेरेस विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ हाथ मिलाते दिख रहे हैं। गुटेरेस इस जुलाई माह में नई दिल्ली आए थे। परिषद ने बुधवार को छठा अनाधिकारिक मतदान करवाया था जिसमें गुटेरेस के पक्ष में 13 मत पड़े थे जबकि दो मत किसी के पक्ष में नहीं थे। पांच स्थायी सदस्यों में से किसी ने भी उनके खिलाफ वीटो का इस्तेमाल नहीं किया था जिससे इस पद के लिए गुटेरेस की राह खुल गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग