ताज़ा खबर
 

तुर्की: सेना की गाड़ी पर हमले में 28 की मौत

तुर्की की राजधानी अंकारा में सेना के सर्विस वाहनों को निशाना बनाकर किए गए एक कार बम विस्फोट में बुधवार को कम से कम 28 लोगों की मौत हो गई और 61 अन्य घायल हो गए। तुर्की के उप-प्रधानमंत्री नोमान कुतरुलमस ने संवाददाताओं को यह जानकारी दी।
Author अंकारा | February 18, 2016 22:48 pm
(Photo-Agency)

राजधानी अंकारा में तुर्की सेना को निशाना बना कर किए गए कार बम विस्फोट में कम से कम 28 लोगों की मौत हो गई और 61 अन्य लोग घायल हो गए। देश को हिला कर रख देने वाले हमलों की शृंखला के बीच यह ताजा हमला है। उपप्रधानमंत्री नोमान कुर्तुलमस ने मृतकों की संख्या की पुष्टि करते हुए बताया कि कल रात सैन्य वाहनों के काफिले को निशाना बना कर विस्फोट किया गया। अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि यह हमला किसने किया।

राष्ट्रपति रेसेप तईप एरडोगन ने हमले को अंजाम देने वालों के खिलाफ जवाबी कार्रवाई करने का संकल्प लिया है। यह हमला ऐसे समय पर हुआ है जब तुर्की में कई घातक हमले हुए हैं जिनके लिए जिहादियों और कुर्द विद्रोहियों को जिम्मेदार बताया जा रहा है।
कार में उस समय विस्फोट हो गया जब दर्जनों सैनिकों को लेकर जा रही सैन्य बसों का काफिला मध्य अंकारा में एक ट्रैफिक लाइट पर रुका। इस विस्फोट के बाद लोगों में घबराहट फैल गई।

कुर्तुलमस ने कहा, ‘इस हमले ने स्पष्ट तौर पर हमारे पूरे देश को निशाना बनाया है और इस हमले को घृणित, अपमानजनक, विश्वासघाती और कपटी ढंग से अंजाम दिया गया।’ घटनास्थल से निकलने वाले धुएं का गुबार पूरे शहर पर देखा जा सकता था। यह स्थान तुर्की सेना और संसद के मुख्यालय के पास है।

पूरे अंकारा में शक्तिशाली विस्फोट की आवाज सुनी गई, जिसे सुन कर स्तब्ध निवासी अपनी-अपनी बालकनी की ओर दौड़े। घटनास्थल से 500 मीटर की दूरी पर खड़े 25 साल के गुर्कन ने कहा, ‘मैंने आग का एक भारी गोला बड़ा होते देखा।’
‘लोगों ने जैसे ही इस भीषण विस्फोट की आवाज सुनी, वे घबराहट में इधर-उधर दौड़ने लगे।’

सेना ने कहा कि हमला अंतरराष्ट्रीय समय अनुसार रात दस बजे हुआ और इसमें ‘सैन्यकर्मियों को ले जा रहे सेवा वाहनों को निशाना बनाया गया।’ एरडोगन ने चेतावनी दी है कि ‘तुर्की किसी भी समय, किसी भी स्थान पर या किसी भी अवसर पर आत्मरक्षा के अपने अधिकार का इस्तेमाल करने से झिझकेगा नहीं।’’

इस विस्फोट के चलते प्रधानमंत्री अहमत दावुतोग्लू ने गुरुवार को ब्रसेल्स की यात्रा रद्द कर दी। वह वहां यूरोपीय प्रवासी संकट पर चर्चा करने के लिए जा रहे थे। ईरदोगन ने भी अजरबैजान की यात्रा स्थगित कर दी। अंकारा में एंबुलेंस और दमकल गाड़ियां मौके पर भेजी गईं। घायलों को स्ट्रेचरों पर डालकर ले जाते हुए देखा गया। वाशिंगटन ने एक बयान जारी कर ‘तुर्की के सैन्यकर्मियों और नागरिकों पर हुए आतंकी हमले की’ कड़ी निंदा की है और साथ ही नाटो के प्रमुख सहयोगी देश के साथ अमेरिकी एकजुटता दिखाई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.