ताज़ा खबर
 

भारत के अरुणाचल प्रदेश के करीब तिब्बत में चीनी सेना की 11 घंटे की ड्रिल, ‘दुश्मन’ के एयरक्राफ्ट को मार गिराने का किया अभ्यास

चीन की आधिकारिक एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार इस सैन्य अभ्यास के दौरान चीनी सैनिकों ने अत्याधुनिक लाइट वेट टैंकों का प्रयोग किया।
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (पीटीआई फोटो)

भारत-चीन सीमा विवाद के बीच अरुणाचल प्रदेश से सटे तिब्बती इलाके में चीनी सेना ने 11 घंटे तक लाइव फायर ड्रिल किया। चीनी सेना ने ‘दुश्मन देश’ के एयरक्राफ्ट को नष्ट करने का अभ्यास किया। ये जानकारी चीन की सरकारी मीडिया ने दी है। रिपोर्ट में ये साफ नहीं है कि चीनी सेना ने ये युद्धाभ्यास कब किया। सिक्किम स्थित डोक ला इलाके में जून के पहले हफ्ते से दोनों देशों के बीच गतिरोध जारी है। चीन भूटान के डोकलाम इलाके में सड़ बना रहा था जिसका भूटान और भारत ने विरोध किया। चीन इस इलाके को अपना डोकलांग इलाका बताता है।

चीनी के सरकारी चैनल सीसीटीवी के अनुसार देश की पीपल्स लिबरेशन आर्टी (पीएलए) ने ताजा ड्रिल की जिसमें तिब्बत स्थित सैन्य कमांड और चीन की प्लाटी माउंटेन ब्रिगेड शामिल हुए। चीन भारत के अरुणचाल प्रदेश को दक्षिणी तिब्बत बताता रहा है। तिब्बत के धार्मिक नेता दलाई लामा तिब्बत को अलग देश बताते रहे हैं और उसे चीन से आजाद कराने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रयास करते रहे हैं। चीनी मीडिया के अनुसार चीनी सेना ने ताजा ड्रिल यारलंग झांगबो नदी के किनारे किया जो ब्रह्मपुत्र नदी के ऊपरी धारा पर स्थित है। ब्रह्मपुत्र नदी चीन, भारत और बांग्लादेश में प्रवाहित होती है।

यारलंग झांगबो नदी अरुणाचल प्रदेश से भारत में सियांग नदी के रूप में प्रवेश करती है और आगे चलकर असम की ब्रह्मपुत्र नदी बन जाती है। चीन इस नदी की ऊपरी धारा पर बांध बना रहा है जिसके प्रति भारत अपनी चिंता जता चुका है। इस इलाके में चीन की माउंटेन ब्रिगेड लम्बे समय से तैनात है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के अनुसार ये ब्रिगेड युद्ध के अग्रिम मोर्च पर लड़ाई करती है।

चीनी सेना के ड्रिल के दौरान अलग-अलग सैन्य इकाइयों को युद्ध की स्थिति में एक साथ एक जुट होकर साझा हमला करने का अभ्यास किया गया। इस ड्रिल में एंटी-टैंक ग्रेनेट और मिसाइल का भी प्रयोग किया गया। चीन की आधिकारिक एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार इस सैन्य अभ्यास के दौरान चीनी सैनिकों ने अत्याधुनिक लाइट वेट टैंकों का प्रयोग किया।

छह जून को चीनी सेना ने सिक्किम स्थिति भारतीय इलाके में बने बंकर को नष्ट कर दिया था। वहीं भारतीय सैनिकों ने मानव शृंखला बनाकर चीन को डोकलाम इलाके में सड़क निर्माण से रोका। घटना के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है। चीन और भारत ने सिक्किम इलाके में अतिरिक्त सैनिक तैनात कर दिए हैं। चीनी मीडिया में भारत को 1962 के युद्ध का सबक याद दिलाया गया तो भारतीय रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने जवाब में कहा कि भारत अब 1962 वाला नहीं है।

हिन्द महासागर और अदन की खाड़ी में भी चीनी नौसेना ने भारत से चार गुना ज्यादा युद्धपोत तैनात कर रखे हैं। वहीं चीन ने जिबूती में देश से बाहर अपना पहला नौसैनिक अड्डा बनाया है। भारत ने 10 जुलाई से अमेरिका और जापान के साथ मिलकर बंगाल की खाड़ी मे एक संयुक्त सैन्य अभ्यास किया। अमेरिका ने कहा कि ये अभ्यास चीन के लिए संकेत है।

वीडियो- चीनी सेना ने भारतीय बंकर नष्ट कर दिए जिसके बाद तनाव हो गया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.