ताज़ा खबर
 

उत्तर कोरिया के खिलाफ अमेरिकी मिसाइल डिफेंस सिस्टम की तैनाती पर भड़का चीन

चीन और रूस दोनों ने दक्षिण कोरिया की भूमि पर टीएचएएडी प्रणाली की तैनाती का विरोध किया है। चीन ने यह चिंता जताई है कि इससे अमेरिकी रडार को चीनी क्षेत्र में दखल का मौका मिल जाएगा।
Author वाशिंगटन | April 9, 2016 15:03 pm

अमेरिका के रक्षा मंत्री एश कार्टर ने बताया है कि चीन के विरोध के बावजूद दक्षिण कोरिया में प्रस्तावित अमेरिकी मिसाइल रक्षा प्रणाली की ‘‘तैनाती होने जा रही है।’’ उत्तर कोरिया के हालिया परमाणु परीक्षण और लंबी दूरी के रॉकेट प्रक्षेपण के बाद देश के मिसाइल खतरे से मुकाबले के लिए ‘टर्मिनल हाई अल्टीट्यूड एरिया डिफेंस’ (टीएचएएडी) प्रणाली की तैनाती को लेकर पिछले महीने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच बातचीत शुरू हुई थी।

Read Also: अमेरिका ने अपने नागरिकों को पाकिस्तान नहीं जाने के लिए चेताया, दिया आतंकी हिंसा का हवाला 

भारत और फिलिपीन की यात्रा से पहले कार्टर कल एशिया-प्रशांत को लेकर अमेरिकी रक्षा नीति पर बोल रहे थे। यह पूछे जाने पर कि क्या टीएचएएडी की तैनाती होने जा रही है, कार्टर ने न्यूयार्क में विदेश मामलों की परिषद को बताया, ‘‘नहीं, यह एक जरूरी चीज है। यह हमारे और दक्षिण कोरिया के बीच की बात है। यह कोरियाई प्रायद्वीप पर हमारी सेना और दक्षिण कोरिया की रक्षा का मामला है। इसका चीन से कोई लेना देना नहीं है।’’

Read Also: मसूद अजहर प्रतिबंध मामला: चीनी मीडिया ने कहा- चीनी कंपनियों पर सुरक्षा प्रतिबंधों से भारत को होगा नुकसान

चीन और रूस दोनों ने दक्षिण कोरिया की भूमि पर टीएचएएडी प्रणाली की तैनाती का विरोध किया है। चीन ने यह चिंता जताई है कि इससे अमेरिकी रडार को चीनी क्षेत्र में दखल का मौका मिल जाएगा। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पिछले हफ्ते वाशिंगटन में आयोजित परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन से इतर अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा से मुलाकात के दौरान अपनी चिंता दोहराई थी। अमेरिका ने बताया कि यह प्रणाली पूरी तरह से उत्तर कोरिया के मिसाइल खतरे से मुकाबले के लिए डिजाइन की गई है और इससे चीन का सामरिक संतुलन नहीं बिगड़ेगा।

Read Also: उत्तर कोरिया ने अमेरिका तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल इंजन का सफल प्ररीक्षण किया 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.