ताज़ा खबर
 

परमाणु बमों के एडवांस्‍ड वर्जन का टेस्‍ट कर रहा है अमेरिका, अगले तीन साल में हो सकते हैं और परीक्षण

नेलिस वायुसेना अड्डे से एक एफ-16 विमान ने पिछले महीने नेवाडा के रेगिस्तान में बम के निष्क्रिय संस्करण को गिराया ताकि इसके गैर-परमाणु कामों के साथ-साथ बम ले जाने की विमान की क्षमता का परीक्षण हो सके।
Author अलबुकर्क | April 15, 2017 20:36 pm
डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति। (फाइल फोटो) REUTERS/Jonathan Ernst

सैंडिया नेशनल लेबोरेट्रीज के वैज्ञानिक अमेरिकी शस्त्रागार का दशकों से हिस्सा रहे एक परमाणु बम के उन्नत संस्करण के परीक्षणों की एक नई श्रृंखला में पहली सफलता प्राप्त करने का दावा कर रहे हैं । बी61-12 पर काम कई साल से चलता रहा है । सरकारी अधिकारियों का कहना है कि बम के नकली संस्करणों का इस्तेमाल कर किए गए ताजा परीक्षण इसके नवीकरण के प्रयासों में महत्वपूर्ण साबित होंगे ।
नेलिस वायुसेना अड्डे से एक एफ-16 विमान ने पिछले महीने नेवाडा के रेगिस्तान में बम के निष्क्रिय संस्करण को गिराया ताकि इसके गैर-परमाणु कामों के साथ-साथ बम ले जाने की विमान की क्षमता का परीक्षण हो सके। धूल के झोंके के साथ नकली बम टोनोपा परीक्षण रेंज की एक सूखी झील में गिरा।

सैंडिया के स्टॉकपाइल रिसोर्स सेंटर की निदेशक ऐना शॉउर ने एक बयान में कहा, ‘‘सभी को साथ देखकर अच्छा लग रहा है: हथियार का डिजाइन, परीक्षण की तैयारियां, विमान, रेंज और इन्हें करके दिखाने वाले लोग ।’’परीक्षण से हासिल किए गए आंकड़ों के विश्लेषण में वैज्ञानिक महीनों का वक्त देने की योजना बना रहे हैं । दूरबीनों, रिमोट कैमरों और परीक्षण रेंज पर रखे गए अन्य उपकरणों ने ऐसी स्थितियों में हथियार की विश्वसनीयता, शुद्धता और प्रदर्शन संबंधी सूचनाएं दर्ज की जैसी वास्तविक अभियानों के दौरान होती हैं । अगले तीन साल में और परीक्षण किए जा सकते हैं । राष्ट्रीय परमाणु सुरक्षा प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि जीवन विस्तार कार्यक्रम के तहत विकसित बी61-12 की पहली उत्पादन इकाई 2020 तक पूरी हो सकती है ।

अफगानिस्तान पर अमेरिका द्वारा किए गए बम हमले पर ट्रंप ने कहा- "अमेरिकी सेना पर है गर्व"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.