ताज़ा खबर
 

चीन के जैक मा की कंपनी अलीबाबा को अमेरिका ने फिर किया ब्लैक लिस्ट कहा-नकली सामान बेचती है

साल 2015 में चीनी नियामकों ने एक रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि अलीबाबा ने अपनी वेबसाइट पर नकली सामानों की सेल को रोकने को लिए कुछ नहीं किया।
अलीबाबा ग्रुप के चेयरमैन जैक मा (फाइल फोटो-AP)

चीन की ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा अमेरिका की उन कंपनियों की सालाना सूची में दोबारा शामिल हो गई है जो नकली सामान बेचती है। अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि के कार्यालय ने बुधवार को कहा कि कंपनी बहुत नकली सामान बेचती है और जब शिकायतें की जाती हैं तो वह बहुत देर में उनको सुनती है। इससे पहले कार्यालय ने साल 2012 में अलीबाबा पर से बैन हटा लिया था, लेकिन अमेरिका के कई व्यापार संगठनों ने दोबारा उसे ब्लैकलिस्ट की सूची में पहुंचा दिया।

अमेरिकन अपैरल एेंड फुटवियर असोसिएशन के वाइस प्रेजिडेंट स्टीफन लैमर ने कहा कि अलीबाबा के कारण बहुत लोग परेशान हैं। इसमें वह अमेरिकी कंपनी भी शामिल हैं जिन्होंने अपनी सेल्स इन नकली सामानों के कारण गंवाई है। दूसरी ओर अलीबाबा ग्रुप प्रेजिडेंट माइकल इवांस ने कहा कि कंपनी इसे निराश है। कंपनी ने पिछले 4 वर्षों में अपनी मार्केट पॉलिसियों को और सशक्त किया है। इवांस ने सवाल उठाया कि क्या अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि कार्यालय द्वारा लिया गया यह फैसला सही तथ्यों पर आधारित या देश के मौजूदा राजनीतिक हालातों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। आपको बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के कैंपेन के दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर बौद्धिक संपदा चुराने का आरोप लगाया था।
साल 2014 में अलीबाबा ने न्यू यॉर्क स्टॉक एक्सचेंज के सबसे बड़े आईपीओ के दौरान अॉन रिकॉर्ड 25 खरब डॉलर के स्टॉक बेचे थे। लेकिन फिर से उसे ब्लैकलिस्ट में डाला जाना उसकी प्रतिष्ठा के लिए एक झटका है। साल 2015 में चीनी नियामकों ने एक रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि अलीबाबा ने अपनी वेबसाइट पर नकली सामानों की सेल को रोकने को लिए कुछ नहीं किया।

क्या है अलीबाबा 

ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा को साल 1999 में शुरू किया गया था। इसके संस्थापक जैक मा हैं। फिलहाल यह अमेजन और ईबे जैसी दुनिया की सबसे बड़ी ई कॉमर्स कंपनियों को टक्कर दे रही है। साल 2012 में इसके दो पोर्टलों ने 1.1 ट्रिलियन युआन (170 बिलियन अमेरिकी डॉलर) का कारोबार किया जो ईबे और अमेजन के संयुक्त कारोबार से ज्यादा था। जैक मा चीन के सबसे अमीर आदमी भी हैं। उन्होंने एक वक्त ऐसा भी देखा था जब केएफसी ने उन्हें नौकरी देने से मना कर दिया था। अभी की हकीकत यह है कि अलीबाबा. कॉम के नाम से मशहूर यह कंपनी दुनिया भर के 190 कंपनियों से जुड़ी हुई है।

चीनी सामान का बहिष्कार करने पर चीन ने भारत को दी चेतावनी; कहा- ‘इसका नुकसान भारत को ही होगा’, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग