February 20, 2017

ताज़ा खबर

 

नरेंद्र मोदी के फैसले के बाद पाकिस्तान संसद में भी उठी बड़े नोट बंद करने की मांग

पीपीपी के सांसद ने कहा कि इससे भ्रष्टाचार और कालेधन पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी।

Author इस्लामाबाद | November 11, 2016 18:21 pm
5000 रुपए का पाकिस्तानी नोट। (Photo Source: Dawn.com)

भारत में 500 और 1000 रुपए के नोट बंद किए जाने के बाद अब पाकिस्तान की संसद में भी बड़े नोट बंद करने की मांग उठी है। एक पाकिस्तानी सांसद ने संसद में भारत का उदाहरण देते हुए कालेधन और भ्रष्टाचार पर लगान लगाने के लिए 1000 और 5000 हजार के नोट बंद करने की मांग की है। विपक्षी पाकिस्तान पिपुल्स पार्टी के सांसद उस्मान सैफुल्लाह खान ने वित्त मंत्रालय की स्थाई समिति को संबोधित करते हुए कहा बड़ी कीमत वाले मनी लॉन्ड्रिंग और भ्रष्टाचार बढ़ने की संभावना है। भारत का उदाहरण देते हुए खान ने कहा कि विश्व में इस तरह के बड़े नोटों को बंद किया जा रहा है। खान ने साथ ही कहा कि बड़े कीमत के नोट बंद करने का मामला वित्तमंत्रालय और सेंट्रल बैंक के समक्ष रखा जाना चाहिए। बता दें, मंगलवार (8 नवंबर) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए बंद करने का ऐलान किया था। मोदी ने ये नोट बंद करते हुए कहा था कि इससे भारत में कालाधन, जाली मुद्रा और भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी।

वीडियो में देखें- 500, 1000 रुपए के नोट बदलवाने बैंक गए लोगों ने क्या कहा, जानिए

भारत में पुराने नोटों को बदलने और जमा कराने के लिए 31 दिंसबर तक का समय दिया गया है। इस दौरान लोग अपने पुराने नोट बैंकों में जाकर बदलवा सकते हैं या फिर अपने अकाउंट में जमा करा सकते हैं। साथ ही सरकार ने कहा है कि जो 2.5 लाख से ज्यादा रुपए जमा कराते हैं तो उनसे 200 गुना जुर्माना लिया जाएगा। नोट बंद किए जाने के एक दिन बाद केंद्र सरकार ने बुधवार रात को घोषणा करते हुए कहा कि 2.5 लाख से ज्यादा के नोट को बदलने पर घोषित आय मिलाया जाएगा। घोषित आय से अगर जमा की राशि नहीं मिली तो टैक्स और 200% तक जुर्माना जमा करना पड़ेगा। राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने इस विषय पर बोलते हुए कहा, ’10 नवंबर से 30 नवंबर तक के बीच जमा किए जाने वाले सभी पैसों की हमें रिपोर्ट्स मिलती रहेगी।’

वीडियो में देखें- 500, 1000 के नोट बदलवाने जा रहे हैं? रखें इन बातों का ध्यान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 6:21 pm

सबरंग