April 28, 2017

ताज़ा खबर

 

महज चार दिन में गायब हो गई सैकड़ों सालों से बह रही यह नदी, हैरान करने वाली है वजह

उन्होंने बताया कि इस नदी के अलास्का की तरफ मुड़ जाने के कारण अलास्का नदी का जलस्तर बढ़ गया है।

उन्होंने बताया कि यह बदलाव जल्द नहीं हुआ है, इसमें बदलाव आने में काफी लंबा समय लगा है। (Jim Best -University of Illinois via AP)

सैकड़ों सालों से बह रही कनाडा की नदी पर मौसम का मार इस प्रकार पड़ी है कि वह 4 दिनों में ही सूख गई। यह कनाडा की 150 मीटर चौड़ी स्लिम्स नदी है। पूरी दुनिया में होने वाला मौसम के बदलाव का असर अब नदियों पर भी पड़ रहा है। इस मामले पर रिसर्चर्स का भी यही कहना है कि स्लिम्स नदी मौसम में हो रहे बदलाव के कारण सूखी है। वहीं साइंटिस्ट इसे कुदरत का करिश्मा समझ रहे है। साइंटिस्ट इसे ‘रिवर पाइरेसी’ का नाम दे रहे हैं, जिसका मतलब नदी की चोरी होता है। द गार्जियन के अनुसार कास्कावुल्श ग्लैशियर से स्लिम्स नदी सैकड़ों साल से बह रही थी।

मौसम में आए बदलाव के कारण कास्कावुल्श ग्लैशियर की बर्फ पिघलने लगी। इस पिघलती बर्फ के कारण इस नदी का बहाव काफी तेज हो गया। यह बहाव इतना तेज था कि नदी ने बहने का रास्ता ही बदल लिया था। इस तेज बहाव के कारण खुद ही एक अलग रास्ता बन गया था। नदी के नई दिशा में बहने के कारण वह अपने पुरानी बहने वाली जगह से बिलकुल सूख गई। आपको बता दें कि अब यह स्लिम्स नदी अलास्का की तरफ बह रही है। नदी के इस तरह अपने पुराने स्थान से गायब हो जाने पर बात करते हुए एक साइंटिस्ट ने बताया कि उन्होंने स्लिम्स नदी का दौरा किया था। उन्होंने बताया कि नदी अपने पहले वाले स्थान से लगभग सूख चुकी है।

उन्होंने बताया कि यह बदलाव जल्द नहीं हुआ है, इसमें बदलाव आने में काफी लंबा समय लगा है। साइंटिस्ट ने कहा कि यह सब केवल ग्लोबल वार्मिंग के कारण हुआ है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण ग्लैशियर की बर्फ पिघली और तेज बहाव के कारण नदी ने अपना रुख बदल लिया। उन्होंने बताया कि इस नदी के अलास्का की तरफ मुड़ जाने के कारण अलास्का नदी का जलस्तर बढ़ गया है। साइंटिस्ट ने कहा कि पहले दोनों नदियां एक जैसी थी लेकिन अब एक का अस्तित्व खत्म हो गया है जबकि दूसरी नदी कई गुना बड़ी हो गई है।

देखिए वीडियो - कनाडा: क्यूबेक सिटी की मस्जिद में नमाज के दौरान फायरिंग, 5 की मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on April 19, 2017 6:37 pm

  1. No Comments.

सबरंग