ताज़ा खबर
 

भूकंप से बेहाल इक्वाडोर में फिर आया भूकंप, 4 दिन पहले आए भूकंप में मरने वालों की संख्या 525 हुई

बुधवार को 45 शव निकाले गए। शनिवार को आए इस भूकंप के बाद अभी तक 1,700 लोग लापता हैं।
Author पेडेर्नलस/मंटा (इक्वाडोर) | April 20, 2016 23:13 pm
इक्वाडोर में भूकंप के बाद राहतकार्य में जुटे सुरक्षाकर्मी। (रॉयटर्स फोटो)

इक्वाडोर के तटवर्ती इलाकों में बुधवार (20 अप्रैल) को फिर से तेज भूकंप आया जिसकी तीव्रता 6.1 मापी गई। वहीं दूसरी ओर देश में गत शनिवार (16 अप्रैल) को आए भीषण भूकंप में मरने वालों की संख्या कम से कम 525 हो गयी है। अधिकारियों ने बताया कि बचाव कर्मी पश्चिमी प्रांत मनाबी में मलबे से लगातार शवों को बाहर निकाल रहे हैं। बुधवार को 45 शव निकाले गए। शनिवार को आए इस भूकंप के बाद अभी तक 1,700 लोग लापता हैं।

अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार, बुधवार सुबह आठ बजकर 33 मिनट पर आए भूकंप का केन्द्र 15.7 किलोमीटर की गहराई में था। यह मुइस्ने के 25 किलोमीटर पश्चिम और प्रोपिसिया के 73 किलोमीटर पश्चिम-दक्षिण पश्चिम में था, जो पहले आए भूकंप के केन्द्र से ज्यादा दूर नहीं था।

क्विटो में अधिकारियों ने बुधवार आए इस भूकंप को मुख्य भूकंप के बाद आने वाला झटका बताया। इसे लेकर कोई सुनामी चेतावनी जारी नहीं की गयी है। अभी तक कहीं से जान-माल के नुकसान की कोई सूचना नहीं है। सरकार ने बुधवार को कहा कि इक्वाडोर पेसिफिक तट पर आए 7.8 तीव्रता के शक्तिशाली भूकंप के बाद 525 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो गई है। यह क्षेत्र सैलानियों के बीच लोकप्रिय है।

खोजी कुत्ते और खुदाई करने की मशीनें पेडेर्नलस और मंटा जैसे तटीय शहरों में मलबा हटाने में काम में लगी हुई हैं। क्षेत्र में सड़ते शवों की गंध तेज होती जा रही है। अंतरराष्ट्रीय बचावकर्ता और सहायता समूह पीड़ितों की मदद के लिए आ गए हैं और खोजकर्ता घरों, होटलों और दफ्तरों के मलबे में फंसे परिवारों को निकालने के लिए खुदाई कर रहे हैं।

उप गृहमंत्री डिएगो फुएंट्स ने राजधानी क्विटो में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमारे पास 2,000 लोगों की सूची हैं जिन्हें तलाश किया जा रहा है मगर हम अब तक 300 लोगों को तलाश कर सके हैं। सरकार के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, तकबरीन 4,605 लोग जख्मी हुए हैं। राष्ट्रपति राफेल कोरिया ने अच्छी खबर देते हुए कहा कि मलबे में से 54 लोगों को जिंदा निकाला गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.