December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

जानिए- शाम के समय जूते खरीदने का है क्या फायदा?

आज हम आपको बता रहे हैं कि चप्पल या जूते खरीदने का सबसे सही वक्त कौनसा है और ऐसा क्यों है।

दरअसल दिनभर के खाने में नमक और शुगर होता है जिससे शरीर में पानी की मात्रा बढ़ती है, ये पानी खासतौर पर हाथ और पैरों में जमा होता है।

आपको ये तो पता होगा किस समय क्या खाना चाहिए या किस समय शराब पीनी चाहिए या किस समय क्या काम करना चाहिए और क्या काम नहीं करना चाहिए। वहीं अगर आपसे कोई ये सवाल पूछे कि पूरे दिन में जूते खरीदने का सही वक्त कौनसा होता है? तो आप भी यह सवाल सुनकर चौंक जाएंगे। लेकिन यह बात सच है कि जूते खरीदने का भी एक सही वक्त होता है और उसके अनुसार ही जूते खरीदने चाहिए। आज हम आपको बता रहे हैं कि चप्पल या जूते खरीदने का सबसे सही वक्त कौनसा है और ऐसा क्यों है।

भारती हॉस्पिटल कर्नाल के कंसल्टेंट एंड्रोक्रीनॉलोजिस्ट और साउथ एशियन फेडेरेशन ऑफ एंड्रोक्राइन सोसाइटीज के उपाध्यक्ष डॉक्टर संजय कालरा का कहना है कि फुटवेयर सही टाइम पर खरीदना बहुत जरूरी है, खासतौर पर डायबिटीज के मरीजों को इसका ज्यादा ध्यान रखना चाहिए। डॉक्टर संजय कालरा के अनुसार, फुटवेयर सुबह के वक्त नहीं खरीदने चाहिए जबकि शाम या रात में लेने चाहिए। ये बात ऐसे ही नहीं कही जा रही बल्कि इसके पीछे बड़ी वजह भी है।

READ ALSO: जानिए- आपके लिए गाय का दूध ज्यादा फायदेमंद है या भैंस का दूध

दरअसल दिनभर के खाने में नमक और शुगर होता है जिससे शरीर में पानी की मात्रा बढ़ती है, ये पानी खासतौर पर हाथ और पैरों में जमा होता है। इसकी वजह से शाम तक शरीर में शुगर और नमक की मात्रा अधिक हो जाती है और इससे पांव के नंबर हल्के से बढ़ जाते हैं। अगर आपके पांव का साइज सुबह 7 होता है तो शाम को यह साइज बढ़कर 8 हो जाती है। सुबह जब आपके पैरों का साइज कम ज्यादा होगा और तब आप फुटवेयर खरीदेंगे तो वो उस समय तो आपके पैरों में अच्छी तरह से फिट आ जाए, लेकिन बाद में यह आपके लिए दिक्कत खड़ी कर सकते हैं। अगर आप लगातार छोटी साइज के जूते पहनते हैं तो ये आपके लिए कई बीमारियों का कारण बन सकता है। वहीं डायबिटीज के मरीजों को ये दिक्कत थोड़ी ज्यादा हो सकती है, इसलिए उन्हें तो इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए।

हेल्थ से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 18, 2016 11:23 am

सबरंग