December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

सिगरेट छोड़ने के बाद ऐसे बदलती है आपकी सेहत, यहां जानिए- हर घंटे क्या होता है बदलाव

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि जब आप सिगरेट छोड़ देते हैं तो आपकी हेल्थ में हर घंटे क्या बदलाव होता है और कैसे आपकी सेहत ठीक होती है।

जब आप सिगरेट पीते हैं तो आपका हार्ट पम्प ब्लड तेज हो जाता है जिससे हार्ट रेट बढ़ जाती है। हालांकि जब आप स्मोकिंग बंद कर देते हैं, तो 20 मिनट बाद आपकी हार्ट रेट नॉर्मल हो जाती है।

ये आप सभी जानते हैं कि सिगरेट पीने से आपकी सेहत को नुकसान पहुंचता है और ये आपके शरीर के लिए नुकसानदायक है। साथ ही इस आदत से छुटकारा पाना भी बहुत मुश्किल की बात है और कई बार लोग सिगरेट छोड़ देते हैं, लेकिन तलब की वजह से वापस शुरू कर देते हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि जब आप सिगरेट छोड़ देते हैं तो आपकी हेल्थ में हर घंटे क्या बदलाव होता है और कैसे आपकी सेहत ठीक होती है।

20 मिनट- जब आप सिगरेट पीते हैं तो आपका हार्ट पम्प ब्लड तेज हो जाता है जिससे हार्ट रेट बढ़ जाती है। हालांकि जब आप स्मोकिंग बंद कर देते हैं, तो 20 मिनट बाद आपकी हार्ट रेट नॉर्मल हो जाती है। सिगरेट छोड़ने के बाद ये पहला महत्वपूर्ण परिवर्तन होता है।

60 मिनट बाद- सिगरेट छोड़ने के एक घंटे बाद हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर नॉर्मल लेवल हो जाता है। इस दौरान उंगलियों में सर्कुलेशन बेहतर हो जाता है। हालांकि इस वक्त आपको चिंता, तनाव और हताशा महसूस हो सकती है और नींद भी नहीं आती है।

12 घंटे बाद- इस दौरान ब्लड में कार्बन मोनोऑक्साइड का लेवल गिर जाता है जो कि स्मोकिंग करने से बॉडी में जमा होता है। धीरे-धीरे रक्त में ऑक्सीजन का स्तर भी बढ़ जाता है। यह सतर्कता बढ़ने का कारण बनता है।

24 घंटे बाद- सिगरेट छोड़ने के एक दिन बाद ही हार्ट अटैक का खतरा लगभग 10 फीसदी और कोरोनरी हार्ट डिजीज का खतरा 70 से फीसदी कम हो जाता है। ब्लड फ्लो बढ़ने से बॉडी से टोक्सिन बाहर निकलने का प्रवाह धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। इसका मतलब है कि आपका स्वास्थ्य लगातार ठीक हो रहा है।

48 घंटे बाद- सिगरेट छोड़ने के दो दिन बाद आपको स्मेल और टेस्ट के प्रति सेंसिटिविटी बढ़ना महसूस हो सकती है। इसका परिणाम यह होता है कि खाने के प्रति आपकी लालसा बढ़ जाती है और आपकी नई नई चीजे खाने की इच्छा बढ़ जाती है।

72 घंटे बाद- यह समय थोड़ा कठिन होता है। इस दौरान आपको निकोटीन लेने का मन करता है जिस वजह से आपको सिरदर्द, मतली और पसीना आना जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है। कुछ लोगों को गंभीर ऐंठन और चिंता, अवसाद और चिड़चिड़ापन जैसे लक्षण भी महसूस हो सकते हैं।

3 हफ्ते बाद- स्मोकिंग छोड़ने के 21 दिनों बाद आपके ब्लड सर्कुलेशन में सुधार होता है और स्टैमिना बढ़ता है। दरअसल सिगरेट पीने से आपके फेफड़ों पर कफ जमा हो जाता है लेकिन इस दौरान फेफड़े साफ होने लगते हैं, जिससे उनका कामकाज सही होता है और आप सांस लेने में सुधार महसूस करते हैं।

1 महीने बाद- एक महीने बाद आपका शरीर स्मोकिंग से हुए नुकसान की मरम्मत करना शुरू कर देता है। यानि फेफड़ों में मौजूद सिलिया सही होने लगता है और फेफड़े नॉर्मल रूप से कामकाज करने लगते हैं। इस तरह फेफड़ों से जहरीले कचरे को हटाने की प्रक्रिया में सुधार होने लगता है और धीरे-धीरे खांसी बंद हो जाती है।

12 महीने बाद- एक साल बाद आपकी बॉडी के पूरी तरह साफ हो जाती है। हालांकि सभी विषाक्त पदार्थों को साफ करने के लिए कुछ और साल लग सकते हैं। स्मोकिंग छोड़ने के एक साल बाद सर्कुलेशन में सुधार हो जाता है और आपको हार्ट डिजीज का खतरा लगभग 50 फीसदी कम हो जाता है।

ममता बनर्जी ने जंतर-मंतर पर की रैली; बोलीं- ‘इस बार कोई भी बीजेपी का समर्थन नहीं करेगा’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 24, 2016 10:36 am

सबरंग